आयरलैंड में वोटिंग के जरिए मिली गे मैरिज को मंजूरीUpdated: Sun, 24 May 2015 09:39 AM (IST)

आयरलैंड में समलैंगिक विवाह पर शुक्रवार को हुए जनमत संग्रह के शनिवार को आए नतीजों ने समलैंगिक शादी के प्रावधानों पर अपनी मुहर लगा दी।

डबलिन। कट्टर रोमन कैथोलिक देश आयरलैंड में समलैंगिक विवाह करना अब कानूनी तौर पर जायज होगा। इस पर शुक्रवार को हुए जनमत संग्रह के शनिवार को आए नतीजों ने समलैंगिक शादी के प्रावधानों पर अपनी मुहर लगा दी। देश के कुल 43 निर्वाचन क्षेत्रों में से 34 के घोषित परिणाम से इसकी पुष्टि हो गई है। 33 निर्वाचन क्षेत्रों में तो समलैंगिकों को प्रचंड बहुमत मिला है, जहां मतदाताओं ने एक स्वर से समलैंगिक विवाह के समर्थन में वोट डाला था।

जनमत संग्रह कराने वाला पहला देश

इन नतीजों के बाद आयरलैंड दुनिया का वह पहला देश बन गया, जहां जनमत संग्रह से समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता मिली है। वैसे यूरोप के 19 देशों में पहले से ही इस तरह की शादी को कानूनी दर्जा हासिल है। अमेरिका के 37 राज्य भी समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता प्रदान करते हैं। अब आयरलैंड भी यूरोप का वह 20वां देश बन गया, जहां समलैंगिक विवाह करना कानूनन सही होगा।

चर्चों को तगड़ा झटका

इस घटनाक्रम से आयरलैंड के ताकतवर रोमन कैथोलिक चर्चों के एकाधिकार को तगड़ा झटका लगा है। चर्चों ने समलैंगिक संबंधों को पाप करार देते हुए इस तरह की शादी का विरोध किया था। जनमत संग्रह में समलैंगिकों के विरोध में मतदान करने का लोगों से आग्रह किया था। कैथोलिक चिंतक जॉन मर्रे के अनुसार, 'हर कोई 'हां' की भविष्यवाणी कर रहा है। इस वक्त की यही सच्चाई है। ऐसा होना दुखद है।

सेंट्रल डबलिन स्क्वायर पर जश्न मनाया

अपनी इस ऐतिहासिक जीत को मनाने के लिए समलैंगिक आयरिश जोड़े भारी तादाद पर सेंट्रल डबलिन स्क्वायर में जुटे। करीब चार दशकों के अपने संघर्ष को हकीकत में बदलता देखने के लिए दो हजार लोगों की भीड़ ने वहां पर नाच-गाकर अपनी खुशी का इजहार किया। अपने समलैंगिक मित्र फर्गल स्कॉट के साथ करने जा रहे फ्रेड शेलबॉम ने कहा, 'आयरलैंड में अब तक हमें नफरत से देखा जाता था। लेकिन अब हमारी भी कानूनी हैसियत है। इस अवसर पर आयरलैंड के 70 वर्षीय मशहूर समलैंगिक नेता डेविड नोरिस ने कहा, यह ऐतिहासिक दिन है। खुशी इजहार करने के लिए शब्द नहीं हैं। नोरिस के अभियान के कारण ही 1993 में समलैंगिक रिश्ते को आयरलैंड में अपराध मुक्त किया गया था।

उम्मीद के मुताबिक रहे नतीजे

जनमत संग्रह के नतीजे उम्मीद के मुताबिक ही रहे। चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में दावा किया गया था कि तीन में से दो आयरिश इस तरह की शादी के पक्ष में हैं। जनमत संग्रह के शुरुआती रुझान ने भी भारी बहुमत से समलैंगिकों की जीत की ओर इशारा किया था। सरकारी रेडियो आरटीएल के अनुसार अस्सी फीसद से ज्यादा लोगों ने 'हां' के पक्ष में मतदान किया है। इसी प्रकार समलैंगिक अधिकार समर्थक आयरिश मंत्री लियो वराडकर ने भी उम्मीद जताई थी, जनमत संग्रह में 70 फीसद से ज्यादा लोगों ने समलैंगिक विवाह के पक्ष में मतदान किया है। पूरे देश में इसको समर्थन हासिल हुआ है। हमारी भारी जीत होने जा रही है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.