Live Score

भारत 7 रनों से जीता मैच समाप्‍त : भारत 7 रनों से जीता

Refresh

6 महीने बाद भी 1 प्रतिशत एंड्रायड डिवाइसेज में हुआ Google Nougat अपडेटUpdated: Thu, 09 Feb 2017 06:31 PM (IST)

6 महीनो बाद भी गूगल के इस अपडेट को केवल 1 प्रतिशत यूजर्स द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है।

नई दिल्ली। एंड्रायड 7.0 Nougat लगभग 6 महीने पहले 22 अगस्त 2016 को रिलीज हुआ था। अब 6 महीनो बाद भी गूगल के इस अपडेट को केवल 1 प्रतिशत यूजर्स द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है।

एंड्रायड 7.0 Nougat गूगल का पॉपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम है, इसके बावजूद इसका इतना कम इस्तेमाल इस बात का परिचायक है की इसे यूजर्स द्वारा अपनाया नहीं गया है। एंड्रायड इस तरह से बिखरा हुआ है की अब भी कई ऐसी डिवाइसेज हैं जो चार साल से भी पुराने एंड्रायड वर्जन पर चल रहे हैं। यह मुद्दा आज का नहीं है।

2015 में आया Android 6.0 marshmallow अपनी रिलीज के साल भर बाद भी मात्र 18.7 प्रतिशत का आंकड़ा छू पाया। जहां यूजर्स का मार्शमैलौ को अपनाने का रेट धीमा था, वहीँ Nougat ने तो निष्क्रियता का नया आयाम ही स्थापित कर दिया है।

एंड्रायड Nougat अपडेट में यूजर्स को बग फिक्सेस, सेटिंग कंट्रोल, बैटरी सावेर मोड, एक्युरिटी अप्डेट्स, 70 से अधिक नए इमोजी, मल्टी-विंडो सपोर्ट समेत कई नए फीचर्स उपलब्ध हैं।

गूगल के डाटा के अनुसार एंड्रायड 7.0 Nougat 6 महीनों में मात्र 1.2 प्रतिशत एंड्रायड यूजर्स तक ही पहुंच पाया। वहीं, 2015 में आया मार्शमैलौ 30.7 प्रतिशत और एंड्रायड 5.0 Nougat 32.9 प्रतिशत एंड्रायड यूजर्स तक ही पहुंच पाया।

इससे भी अधिक हैरान करने वाले आंकड़ें यह है, की एंड्रायड 4.0 Ice Cream Sandwich और एंड्रायड 2.3 Gingerbread अभी भी 1 प्रतिशत से भी कम डिवाइसेज में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके पीछे के कारणों पर नजर डालें, तो एंड्रायड द्वारा लाये जाने वाले उपडाये एप्पल द्वारा निर्धारित किये गए मानकों को दूर-दूर तक छू भी नहीं पाते।

जहां गूगल के अपने डिवाइसेज नेक्सस और एंड्रायड वन को समय पर सही अपडेट मिलते हैं, वहीं, बाकि एंड्रायड डिवाइस के लिए ऐसा नहीं है।

यूजर्स को सही समय पर अपडेट पहुंचाने की जिम्मेदारी हार्डवेयर निर्माताओं की होती है। हालांकि, कुछ फ्लैगशिप को छोड़ कर किसी भी स्मार्टफोन को एक साल से ज्यादा सपोर्ट नहीं मिलता। दो अपडेट भी भूल जाएं, कई डिवाइसेस को प्रमुख एंड्रायड वर्जन अपडेट भी नहीं मिलता।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.