रवींद्र जडेजा को टीम में शामिल नहीं किए जाने पर अश्विन ने किया ये खुलासाUpdated: Sun, 14 Jan 2018 11:57 AM (IST)

रवींद्र जडेजा के अंतिम एकादश में नहीं होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि दूरदर्शिता बहुत अच्छी अध्यापक होती है।

सेंचुरियन। पहले दिन के आखिरी सत्र में चार विकेट निकालकर भारतीय टीम पहले दिन टेस्ट मैच में वापस आ गई है और इसमें सबसे ज्यादा योगदान तीन विकेट लेने वाले स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और दो रनआउट करने वाले ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का है।

दिन का खेल खत्म होने के बाद अश्विन से पूछा गया कि क्या आप यहां की परिस्थितियों को देखकर आश्चर्यचकित थे तो उन्होंने कहा कि मैं यहां कभी टेस्ट खेला नहीं इसलिए मुझे इस बारे में कुछ पता नहीं था। सुबह के सत्र में यहां गेंद स्पिन कर रही थी लेकिन बाद में टर्न नहीं मिला। मैं दक्षिण अफ्रीका में टीम इंडिया के इतिहास को भूलकर यहां पर खेल रहा था और मैं ऐसे ही आगे बढ़ना चाहता हूं।

जडेजा को लेकर ये बोले अश्विन -

रवींद्र जडेजा के अंतिम एकादश में नहीं होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि दूरदर्शिता बहुत अच्छी अध्यापक होती है। मुझे लगा था कि पिच पर स्पिन होगा लेकिन यह बहुत ज्यादा नहीं होगा। पिच स्लो है और उसमें बाउंस है। दोनों टीमें चार तेज गेंदबाजों के साथ खेल रही हैं और मैं यही कह सकता हूं कि दोनों एक जैसी स्थिति में है। मैच के अंत में देखते हैं क्या होता है।

हार्दिक ने करवाई मैच में वापसी -

उन्होंने कहा कि आखिरी सत्र हमारे लिए अच्छा रहा क्योंकि वे विकेट हमारे दूसरे दिन के खेल को तय करेंगे। अगर मेजबान आखिरी घंटे में इतने विकेट नहीं गंवाते तो स्थितियां अलग होतीं। मुझे लगता है कि हार्दिक द्वारा किए गए दो रनआउट और भाग्य ने हमारा साथ दिया। अश्विन ने कहा कि अगर उनके बल्लेबाज आउट नहीं होते तो दूसरा दिन हमारे लिए काफी कठिन हो जाता। नई गेंद से ज्यादा मदद नहीं मिल रही और पिच फ्लैट हो गई है। स्पिन भी नहीं हो रहा है। मुझे लगता है कि दूसरे और तीसरे दिन बल्लेबाजों के होंगे।

बेहतर प्रदर्शन पर है नज़र -

2013-14 के खराब प्रदर्शन पर सवाल उठने पर उन्होंने कहा कि उस समय पांचवें दिन स्पिनर के मुफीद होने के बावजूद हम मैच नहीं जीत पाए थे। वह मेरे पेशेवर गर्व पर चोट थी और उससे मुझे पता चल गया कि मुझे कुछ चीजों पर काम करना है। जब आप विकेट नहीं लेते हो तो आपमें आत्मविश्वास नहीं होता और आप फिर आगे बेहतर करने के लिए सोचते हो। इसके बाद मैंने अपने एक्शन में बदलाव किया और गेंद को छोड़ते समय कलाई मोड़ने पर काम किया। इसके अलावा भी कई चीजों पर मैंने काम किया जिसके कारण पिछले दो-तीन साल मेरे लिए शानदार रहे। मैं सिर्फ आत्मविश्वास से आगे बढ़ रहा हूं और बेहतर करने की कोशिश कर रहा हूं।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.