131 साल बाद समृद्धिदायक बुधादित्य योग में होगा लक्ष्मी पूजनUpdated: Thu, 29 Oct 2015 04:06 AM (IST)

धन की देवी महालक्ष्मी का पूजन दीपावली पर सुख-समृद्धि और वैभव प्रदान करने वाले बुधादित्य योग में होगा।

इंदौर। धन की देवी महालक्ष्मी का पूजन दीपावली पर सुख-समृद्धि और वैभव प्रदान करने वाले बुधादित्य योग में होगा। इसके साथ ही 131 साल बाद गुरु, सिंह और राहु कन्या राशि में रहेंगे। जानकारों की मानें तो यह स्थिति लक्ष्मी प्राप्ति के लिए किए गए अनुष्ठान के साथ ही तांत्रिक क्रियाओं में सफलता प्रदान करने वाली है। अनाज, किराना और विभिन्ना धातु के दामों में उछाल की स्थिति भी बनेगी।

इस वर्ष दीपावली 11 नवंबर बुधवार को होगी। सूर्य और बुध की युति बनने से बुधादित्य योग बना है। ज्योतिर्विद् देवेंद्र कुशवाह के अनुसार बुधादित्य को राजयोग का कारक माना जाता है। इस दौरान किए गए कार्य से सिद्धि प्राप्त होती है। पर्व पर गुरु, सिंह और राहु कन्या राशि में होंगे। इससे पहले ग्रहों की यह स्थिति 1884 में बनी थी। आगे यह स्थिति 2145 में बनेगी।

यह स्थिति व्यापारियों के लिए विशेष लाभदायक है। ज्योतिर्विद् पं. ओम वशिष्ठ ने बताया कि दीपावली पर बन रहा योग जनसामान्य को विशेष फल प्रदान करेगा। दीपावली की पूजा विशाखा नक्षत्र में होगी। इसका स्वामी गुरु है। लक्ष्मी पूजन का श्रेष्ठ समय दीपावली पर शाम 5.43 से 7.38 बजे तक रहेगा। -नप्र

ऐसा होगा पांच दिनी पर्व

धनतेरस : 9 नवंबर को धन के देवता कुबेर के पूजन के साथ पांच दिनी पर्व की शुरुआत होगी। इस दिन मंगलकारी मुहूर्त में जमकर खरीदारी होगी।

रूप चौदस : 10 नवंबर को दीप दान के साथ रूप निखारने का पर्व रूप चौदस हर्षोल्लास से मनाया जाएगा।

लक्ष्मी पूजन : 11 नवंबर को दीपावली पर धन की देवी लक्ष्मी का विधि-विधान से पूजन किया जाएगा। घर आंगन में दीप सज्जा कर जमकर आतिशबाजी की जाएगी।

गोवर्धन पूजा : 12 नवंबर को गोवर्धन के साथ पशुधन की पूजा भी की जाएगी। स्नेहीजन एक-दूसरे को पर्व की बधाई देंगे।

भाई दूज : 13 नवंबर को भाई और बहन के स्नेह का पर्व भाई दूज मनाया जाएगा। इस दिन बहन भाई की आरती उतारकर तिलक करेगी।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.