12 वर्ष बाद गुरुआदित्य योग में मनेगी राखीUpdated: Fri, 07 Aug 2015 08:14 PM (IST)

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर 29 अगस्त को 12 वर्ष बाद गुरुआदित्य योग में राखी का त्योहार मनेगा।

उज्जैन। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर 29 अगस्त को 12 वर्ष बाद गुरुआदित्य योग में राखी का त्योहार मनेगा। इस दिन भाइयों के द्वारा बहनों को दिया गया उपहार दोनों के लिए एश्वर्य व समृद्धि देने वाले रहेंगे। ज्योतिषियों के अनुसार रक्षाबंधन पर दोपहर 1.49 बजे तक भद्रा रहेगी। इसके बाद ही त्योहार मनेगा और शुभ मुहूर्त में बहनें भाई की कलाई पर रखी बांधेंगी।

ज्योतिषाचार्य पं.अमर डब्बावाला के अनुसार इस बार राखी शनिवार के दिन धनिष्‍ठा नक्षत्र के साथ कुंभ राशि के चंद्रमा की साक्षी में आ रही है। इस दिन गुरु व सूर्य सिंह राशि में गोचरस्थ रहेंगे। श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर जब धनिष्‍ठा नक्षत्र का संयोग बनता है, तो विशेष धनकारी माना जाता है। इस दृष्टि से इस दिन बहनों को उपहार में दी गई स्वर्ण व रजत की वस्तुएं ऐश्वर्य व शुभ-समृद्धि देने वाली मानी गई है।

कब बांधें राखी

29 अगस्त को दोपहर 1 बजकर 49 मिनट तक भद्रा रहेगी। इसके बाद लाभ व अमृत के चौघड़िए में श्रवण भगवान का पूजन तथा राखी बांधने का क्रम शुरू होगा। शाम को प्रदोष काल तथा इसके बाद लाभ, शुभ के चौघड़िए में रात 11.30 बजे तक त्योहार मनाया जा सकता है।

यह उपहार शुभ

गुरुआदित्य योग में बहनों को चांदी की वस्तुएं, इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद जैसे मोबाइल, लैपटॉप, आईपॉड, घड़ियां, एलसीडी आदि उपहार में देना शुभ फलदायी रहेगा। शुभ मुहूर्त में स्वर्ण का दान करना भाई-बहन की आयु में वृद्धि का कारक बताया गया है।

महाकाल को सवा लाख लड्डू का भोग

श्रावण पूर्णिमा पर विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल में राजाध्ािराज को सवा लाख लड्डुओं का महाभोग लगाया जाएगा। मंदिर की परंपरा अनुसार तड़के 4 बजे पुजारी भगवान को राखी बांधकर भोग अर्पित करेंगे। भक्तों को दिनभर महाप्रसादी का वितरण किया जाएगा।

देश-विदेश से आ रही बड़े गणेश के लिए राखी

महाकाल मंदिर के समीप स्थित बड़े गणेश मंदिर में देश-विदेश से राखी आने का क्रम शुरू हो गया है। ज्योतिर्विद पं.आनंदशंकर व्यास ने बताया बड़े गणेश की देश-विदेश में सैकड़ों बहनें हैं। प्रतिवर्ष वे अपने भाई के लिए राखी भेजती हैं। इस बार भी राखियों के आने का क्रम शुरू हो गया है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.