Live Score

भारत 8 विकेट से जीता मैच समाप्‍त : भारत 8 विकेट से जीता

Refresh

फिर अपनी ही सरकार पर बरसीं सीपीएस डॉ. सिद्धूUpdated: Sun, 20 Sep 2015 12:50 AM (IST)

डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने शनिवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व वाली सरकार को कठघरे में खड़ा किया।

लुधियाना। अपनी ही सरकार की कार्यप्रणाली पर हमेशा से सवाल खड़े करती आईं मुख्य संसदीय सचिव (सीपीएस) डॉ. नवजोत कौर सिद्धू ने शनिवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व वाली सरकार को कठघरे में खड़ा किया।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य व्यवस्था के सुधार को लेकर पंजाब सरकार गंभीर नहीं। पुराने सरकारी अस्पताल स्टाफ व सुविधाओं की भारी कमी से जूझ रहे हैं, जिसके चलते राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं के स्तर में गिरावट आ रही है।

यदि सरकार स्वास्थ्य क्षेत्र जैसी अहम सेवाओं के सुधार के लिए खजाना खाली होने व पैसों की कमी की बात कह रही है तो राज्य में राज्यपाल शासन लागू कर देना चाहिए। डॉ. सिद्धू सिविल अस्पताल लुधियाना का निरीक्षण करने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि पंजाब के ज्यादातर सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों, नर्सिंग स्टाफ, इलाज के लिए प्रयुक्तहोने वाली आधुनिक मशीनरी और पर्याप्त दवाओं की भारी कमी है। सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं उपलब्ध करवाने के बजाय सरकार एक के बाद एक नए अस्पतालों की बिल्डिंगें खड़ी कर उद्घाटन कर रही है।

सिर्फ बिल्डिंगों से मरीजों का इलाज नहीं होगा। डॉ. सिद्धू का इशारा हाल ही में लुधियाना के वर्धमान चौक के पास बनाए गए तीस बेड के मदर एंड चाइल्ड अस्पताल की तरफ था, जिसका डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने 8 सितंबर को उद्घाटन किया था। तीस बेड के इस एमसीएच अस्पताल में उद्घाटन के पंद्रह दिन बाद भी संसाधनों का अभाव है।

डॉ. सिद्धू ने कहा कि सरकार को चाहिए कि किसी भी अस्पताल का उद्घाटन करने से पहले उसके लिए संसाधनों व पर्याप्त स्टाफ का बंदोबस्त करे, ताकि अस्पताल का उद्घाटन होने के बाद से ही गरीब व जरूरतमंद मरीजों को लाभ मिल सके। डॉ.सिद्धू ने कहा कि वह जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा मुलाकात करने वाली हैं।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.