Live Score

भारत 8 विकेट से जीता मैच समाप्‍त : भारत 8 विकेट से जीता

Refresh

हाई कोर्ट से बरी होते ही छलक उठीं तलवार दंपती की आंखेंUpdated: Thu, 12 Oct 2017 09:40 PM (IST)

फैसले को लेकर तलवार दंपती बुधवार रात से ही बेचैन थी। दोनों अपनी-अपनी बैरक में पूरी रात नहीं सोए और करवटें बदलते रहे।

गाजियाबाद। जिस वक्त पूरे देश की उत्सुकता ये जानने में थी कि आरुषि हत्याकांड पर इलाहाबाद हाईकोर्ट का क्या फैसला आएगा। उस वक्त गाजियाबाद की डासना जेल में बंद आरुषि के मां-बाप की भी बैचेनी बढ़ी हुई थी।

हालांकि इस हत्याकांड में हाई कोर्ट से बरी होने की सूचना मिलते ही डासना जेल में बंद डॉ. राजेश तलवार व उनकी पत्नी डॉ. नूपुर तलवार भावुक हो गए।

बेटी को खोने का गम और इंसाफ मिलने के भाव चेहरे पर दिखने के साथ आंखें भी छलक उठीं। फैसले को लेकर तलवार दंपती बुधवार रात से ही बेचैन थी। दोनों अपनी-अपनी बैरक में पूरी रात नहीं सोए और करवटें बदलते रहे।

दोनों ने बुधवार शाम जेल में रोटी, मसूर की दाल, शलजम की सब्जी व चावल खाए। गुरुवार सुबह उठने के बाद दोनों ने दैनिक दिनचर्या के बाद व्यायाम व योग किया और पूजा में बैठ गए।

सुबह आठ बजे दोनों ने चाय, दलिया व पाव का नाश्ता किया। डॉ. राजेश जेल में बने अपने क्लीनिक पर रोजाना की तरह नहीं गए, लेकिन एक मरीज के दांतों में परेशानी हुई तो उसका इलाज करने क्लीनिक पर आ गए।

नूपुर ने रोजाना की तरह जेल में बच्चों को पढ़ाया। राजेश बैरक के बाहर पीपल के पेड़ के नीचे हनुमान जी की मूर्ति के पास बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करने लगे, नूपुर अपनी बैरक में गुरुवाणी का पाठ करती रहीं। दोनों ने बैरकों में लगे टीवी पर बरी होने की खबर देखी तो वे भावुक हो गए।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.