17 साल पुरानी प्रेमिका से प्यार जागा तो पत्नी को घर से निकालाUpdated: Fri, 12 Jan 2018 06:36 AM (IST)

मैडम, मेरे पति का अफेयर चल रहा है। वह महिला उनकी 17 साल पुरानी प्रेमिका है।

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। मैडम, मेरे पति का अफेयर चल रहा है। वह महिला उनकी 17 साल पुरानी प्रेमिका है। पति उससे शादी करने पर तुले हैं। इसलिए मुझे घर से निकाल दिया है। अब मैं मायके में रहकर दिन काट रही हूं। मेरी आठ साल की शादी खतरे में है। मेरा एक बेटा है, मुझे मेरा हक दिलाइए।

यह गुहार महिला आयोग की बेंच में गुरुवार को मनोरमा वर्मा ने लगाई। अवधपुरी निवासी मनोरमा की शादी आठ साल पहले सिविल इंजीनियर नीतिन वर्मा से हुई थी। पीड़िता ने बताया कि पति की प्रेमिका के तीन बच्चे हैं, जिसकी देखभाल मेरे पति कर रहे हैं। जबकि मेरे बेटे का वे कोई ख्याल नहीं रखते हैं। इस पर आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े ने मनोरमा के पति को कड़ी फटकार लगाते हुए उसे साथ ले जाने के लिए कहा। गुरुवार को राज्य महिला आयोग की राजधानी में अंतिम बेंच थी। इसमें 52 प्रकरण रखे गए थे।

महिला ट्रैफिक पुलिसकर्मी पर अभद्र व्यवहार का आरोप

पिछले दिनों लालघाटी चौराहे पर बैरागढ़ की निजी स्कूल की शिक्षिका कीर्ति तोलानी और उनकी मां मीना तोलानी के साथ महिला ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने अभद्र व्यवहार किया था। कीर्ति ने ट्रैफिक पुलिस के खिलाफ महिला आयोग में आवेदन दिया था। बेंच में शिक्षिका ने आरोप लगाया कि लालघाटी चौराहे पर ट्रैफिक सूबेदार नीलम लक्षकार ड्यूटी पर थीं।

उन्होंने कार की नंबर प्लेट गलत तरीके से देखी तो मेरी कार रोकर चालानी कार्रवाई शुरू कर दी। ट्रैफिक सूबेदार ने उनकी मां को जबरन कार से उतार दिया और कार की चाबी निकाल ली। विरोध करने पर झूमाझटकी की गई, जिससे मुझे और मेरी मां को चोट लगी। इस मामले पर ट्रैफिक सूबेदार नीलम ने बेंच में कहा कि उन्होंने अपनी ड्यूटी निभाई।

पति करता है प्रताड़ित

अशोका गार्डन निवासी प्रिया सचदेव (काल्पनिक नाम) ने अपने पति सुरेश के खिलाफ आवेदन दिया था। उनकी शादी को अभी दो साल ही हुए हैं। प्रिया ने शिकायत की कि उनका पति सतना के वन विभाग में कार्यरत है, लेकिन वह मुझे अपने पास की बजाय गांव में रखता है। दरअसल, दहेज की मांग पूरी नहीं होने के लिए उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। तंग आकर वह अपने मायके रहने लगी है। आयोग ने पति को फटकार लगाते हुए पत्नी को साथ ले जाने के लिए निर्देश दिया।

कुल- 52 प्रकरण

घरेलू अत्याचार- 12

कार्यस्थल प्रताड़ना- 10

दुष्कर्म- 4

अपहरण- 4

दहेज प्रताड़ना- 5

अन्य - 17

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.