6.70 लाख टन प्याज की खपत, दो लाख के लिए रोजाना होगी नीलामीUpdated: Wed, 12 Jul 2017 07:27 PM (IST)

प्रदेश में समर्थन मूल्य पर खरीदी गई साढ़े आठ लाख टन से ज्यादा प्याज को खपाने की चिंता काफी हद तक दूर हो गई है।

भोपाल। प्रदेश में समर्थन मूल्य पर खरीदी गई साढ़े आठ लाख टन से ज्यादा प्याज को खपाने की चिंता काफी हद तक दूर हो गई है। अब तक नागरिक आपूर्ति निगम 6 लाख 70 हजार टन प्याज को खपा चुका है। बाकी बची 2 लाख टन प्याज के लिए रोजाना नीलामी हो रही है। खरीदारों को प्याज का उठाव जल्द से जल्द करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही ये भी बता दिया गया है कि बिकी प्याज खराब हुई तो सरकार की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

सूत्रों के मुताबिक आठ रुपए किलोग्राम के हिसाब से सरकार ने जो प्याज खरीदी थी, वह औसत तीन रुपए किलोग्राम में बिक रही है। कारोबारियों के लिए ये फायदे का सौदा है, इसलिए हाथों-हाथ प्याज बिक रही है। दिल्ली की आजादपुर मंडी में 12 से 15 हजार टन प्याज औसत साढ़े चार रुपए किलो में बिकी है।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से पूरे प्रदेश में बिक्री शुरू हो चुकी है। खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग को उम्मीद है कि काफी प्याज इसमें बिक जाएगी, क्योंकि बारिश खत्म होने के बाद ये प्याज ही काफी महंगी मिलेगी। नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों का कहना है कि अगले एक-दो सप्ताह में पूरी प्याज के सौदे हो जाएंगे।

चार फीसदी से ज्यादा नहीं होगी खराब

सूत्रों का कहना है कि इस बार प्याज चार फीसदी से ज्यादा किसी भी सूरत में खराब नहीं होगी। खरीदी के साथ बिक्री शुरू कर देने के कारण बड़ी मात्रा में प्याज का उठाव हो चुका है। बारिश और परिवहन की वजह से कुछ प्याज खराब हुई है। इसे नष्ट करने की नीति बनाकर कलेक्टरों को अधिकार दिए जा रहे हैं। साथ ही प्याज खराबी के लिए जिम्मेदारी भी तय की जाएगी।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.