अपने नन्हें बच्चों को कभी न खिलाएं ये चीज, दिमाग होता है प्रभावितUpdated: Thu, 07 Dec 2017 07:23 AM (IST)

चिकित्सक हों या डायटीशियन कोई भी फास्ट फूड के पक्ष में नहीं है, बावजूद इसके बिक्री और खाने वालों की संख्या में कमी नहीं आ रही है।

रायपुर। आज के दौर में बच्चों और युवाओं की पहली पंसद बन गया है फास्ट फूड। शहर के स्कूल और कॉलेजों के बाहर वड़ा पाव, समोसा, पिज्जा, बर्गर, रोल, चऊमीन, चिली और कोल्ड ड्रिंग बेचने वालों का जमावड़ा होता है। लोग घर से बाहर निकलते हैं तो उनकी पहली मांग होती है फस्ट फूड।

आज के दौर में घरेलू खानपान की जगह फास्ट फूड ने ले लिया है। लोग पौष्टिक आहार को कम, फास्ट फूड को ज्यादा अहमियत देने लगे हैं। यह हमारी जिंदगी को कितना नुकसान पहुंचाता है, लोगों को इस बात का अंदाजा तक नहीं है।

विशेषज्ञों के अनुसार फास्ट फूड के सेवन से दिमाग में गड़बड़ी पैदा हो सकती है। हाल ही में सीबीएसई द्वारा किए सर्वे में यह बात समने आई है कि फास्ट फू ड बच्चों की याददाश्त को लिए घातक है। इसके चलते दृष्टि दोष व अन्य बीमारियों के शिकार हो रहे हैं।

शिक्षण संस्थानों के आसपास फास्टफूड के स्टाल

कॉलेज हो या स्कूल, सबके आसपास फास्ट फूड के स्टाल भारी संख्या में देखने को मिलते हैं। यहां विद्यार्थियों की भीड़ नजर आती है। यहां तक शिक्षण संस्थानों के कैंटीन में भी फास्ट फूड की मांग काफी देखी जा रही है। अगर कैटीन में फास्ट फूड नहीं है तो छात्र फास्ट फूड बनाने की मांग करते हैं।

हॉस्टल में फास्ट फूड से होती है छात्रों के दिन की शुरुआत

इंजीनिरिंग, मैनेजमेंट, मेडिकल समेत अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों के हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थी हों या किराए में मकान लेकर रहने वाले, इनके दिन की शुरुआत फास्ट फूड से हो रही है। जिन जगहों पर ये चीजें उपलब्ध नहीं हैं वहां दोस्तों के माध्यम से मंगाकर खा रहे हैं। चिकित्सक हों या डायटीशियन कोई भी फास्ट फूड के पक्ष में नहीं है, बावजूद इसके बिक्री और खाने वालों की संख्या में कमी नहीं आ रही है।

फास्ट फूड के सेवन से होती हैं ये हानियां

- निरंतर फास्ट फूड के सेवन से शरीर में शिथिलता पैदा होती है। आप खुद को थका हुआ महसूस करने लगते हैं। पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट की कमी की वजह से फास्ट फूड आपकी ऊर्जा के स्तर को कम कर देता है।

- फास्ट फूड का लगातार सेवन टीनएजर्स में डिप्रेशन का कारण बन सकता है।

- मैदे और तेल से बने ये फास्ट फूड पाचन क्रिया को भी प्रभावित करता है।

- फास्ट फूड के सेवन से 80 फीसदी दिल की बीमारी का खतरा बना रहता है।

- वसा से भरपूर खाद्य पदार्थ हृदय, रक्त वाहिकाओं, जिगर की कई बीमारियों का कारण हो सकता है।

फास्ट फूड मैदे के बने होते हैं और पेट में जाकर जम जाने के कारण डाइजेशन सिस्टम को खराब करते हैं। फास्ट फूड मोटापा को जन्म देता है। इनसे याददाश्त कमजोर होने जैसी कई बीमारियां होती हैं। इंसान को कभी कभार फास्ट फूड का सेवन करना चाहिए, लेकिन अधिक खाना या रूटीन में शामिल करना ठीक नहीं होता है।- डायटीशियन, डॉ. अभ्या आर. जोगलेकर

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.