130 रुपए के लिए खर्च किए 2000, ऐसे जीती मोबाइल कंपनी से लड़ाईUpdated: Sun, 26 Nov 2017 03:48 AM (IST)

टॉक टाइम पैकेज के नाम पर ग्राहक से धोखाधड़ी आइडिया सेल्यूलर कंपनी को महंगा पड़ा।

जगदलपुर। टॉक टाइम पैकेज के नाम पर ग्राहक से धोखाधड़ी आइडिया सेल्यूलर कंपनी को महंगा पड़ा। स्थानीय उमेश कुमार खरे निवासी सिविल लाइन जेल रोड जगदलपुर ने उन्हें 118 रुपए के रिचार्ज पर वायदे अनुसार टॉकटाइम नहीं देने पर जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण फोरम की शरण ली।

जागरूक ग्राहक ने कंपनी से शिकायत पर उलटे उन पर प्लान न समझने का आरोप लगाने पर छोटे से रकम के लिए उससे कई गुना खर्च कर कानूनी लड़ाई लड़ने का निर्णय लिया। अंततः फोरम ने कंपनी को आंशिक रूप से सेवा में कमी करने का दोषी मानते हुए ग्राहक के पक्ष में निर्णय दिया गया।

मामले में परिवादी उमेश कुमार ने फोरम में पेश परिवाद में बताया था कि आइडिया कंपनी ने मैसेज व अन्य माध्यम से 118 रुपए के एवज में 130 का टॉक टाइम के प्लान का प्रसार किया था।

उन्होंने 20 जनवरी को स्थानीय रिचार्ज रिटेलर अनिल गोयल के सीजी मोबाइल चांदनी चौक से 118 रुपए का टॉक टाइम लिया लेकिन उनके मोबाइल पर 130 का टॉक टाइम नहीं प्राप्त हुआ। उन्होंने इसकी शिकायत स्थानीय डीलर से लेकर कंपनी तक की पर उनकी बात नहीं सुनी गई।

मजबूरन उन्हें फोरम में परिवाद दायर करना पड़ा। परिवादी ने अपने पक्ष में कंपनी द्वारा प्रसारित मैसेज की वाइस रिकार्ड सीडी व बिल व्हाऊचर आदि दस्तावेज फोरम के समक्ष पेश किए। वहीं अनावेदक आइडिया की ओर से उसके पक्ष में यह कहा गया कि ग्राहक योजना सही रूप से समझ नहीं सका।

कंपनी की दूसरी प्लान समझ रिचार्ज करवाया था। मामले की सुनवाई करते हुए अध्यक्ष जिला उपभोक्ता फोरम जीएस कुंजाम व सदस्य छबिलेश्वर जोशी ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद माना कि परिवादी निर्मित विचारणीय प्रश्नों के प्रमाण भार के अनुरूप साक्ष्य पेश नहीं कर सका। फोरम ने अनावेदक को मानसिक क्षति के एवज में तीन हजार रुपए तथा परिवाद व्यय के रूप में दो हजार रुपए एक माह के भीतर अदा करने का आदेश दिया है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.