आप पार्टी की नेता सोनी सोरी ने एएसपी पर लगाए गंभीर आरोपUpdated: Wed, 09 Aug 2017 08:47 PM (IST)

आप पार्टी की नेत्री सोनी सोरी ने एएसपी अभिषेक पल्लव पर जान से मारने की धमकी देने का गंभीर आरोप लगाया है।

दंतेवाड़ा। आप पार्टी की नेत्री सोनी सोरी ने एएसपी अभिषेक पल्लव पर जान से मारने की धमकी देने का गंभीर आरोप लगाया है। बुधवार को न्यायालय परिसर में पहुंची सोनी सोनी ने मीडिया के समक्ष कहा कि घटना की वास्तविकता जानने वे पोटाकेबिन पहुंची थीं। जहां अधीक्षिका और छात्राओं से चर्चा करना चाहती थी। लेकिन मौके पर मौजूद एएसपी अभिषेक पल्लव ने उन्हें अधीक्षिका से मिलने नहीं दिया और बुरा बर्ताव करने लगे। कहा कि यहां आने के लिए किससे अनुमति ली है।

सोनी सोरी का आरोप है कि इस दौरान अधिकारी ने ऊंचे स्वर में जान से मारने और एफआईआर दर्ज कराने की धमकी तक दे डाली। इस दौरान अधिकारी के साथ महिला तहसीलदार भी मौजूद थी। जो उनके व्यवहार से सहमी नजर आई। लेकिन उनके साथ महिला कांस्टेबल नहीं थी। जबकि उन्हें भी कन्या छात्रावास में महिलाओं के साथ प्रवेश करना चाहिए था।

अधीक्षिका ने भी किया गुमराह

सोनी सोरी ने मीडिया को बताया कि घटना की जानकारी मिलने पर दो अगस्त को भी पोटाकेबिन जाकर अधीक्षिका से मुलाकात की थी। तब अधीक्षिका ने बात छिपाने की कोशिश की और अधिकारियों के दौरे को सौर ऊर्जा और पानी व्यवस्था निरीक्षक के लिए आना बताते गुमराह किया था। जबकि कलेक्टर और एसपी घटना के संबंध में छात्राआें से पूछताछ कर लौटे थे। सोनी सोरी इसके बाद स्कूल छुट्टी होने का इंतजार किया और बाहर निकले कुछ छात्रााओं से गोंडी में चर्चा की। तब उन्हें सीआरपीएफ जवानों द्वारा छेड़छाड़ किए जाने की पुष्टि हो गई थी।

सोनी सोरी ने पूरे मामले का निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। साथ ही घटना के लिए कलेक्टर और एसपी को जिम्मेदार बताया है। आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी और मामले को छिपाने के लिए स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी आड़े हाथों लेते जिम्मेदार बताया। प्रदेश सरकार अपने प्रतिनिधियों उपकृत करने अधिकारियों को छूट दे रखी है। शिक्षण संस्थाओं में फोर्स की आवाजाही शुरु कर दी है। बंदूकधारियों के स्कूलों में आने से बच्चों का भविष्य खतरे में है।

सोनी सोरी का कहना है कि मामले को दबाने अधीक्षिका और अधिकारियों ने छात्राओं को डराया-धमकाया था। उन्हें कहा गया था कि आश्रम में जो हुआ उसकी जानकारी किसी को न दें। घर जाने पर भी अपना मुंह बंद रखे। मीडिया में बात आने के बाद तुम्हारा भविष्य बिगड़ जाएगा।

संस्था में आने से नहीं, वीडियोग्राफी से रोका : एएसपी

एएसपी अभिषेक पल्लव ने मामले के संबंध में कहा कि सोनी सोरी के साथ उन्हाेंने किसी तरह का दुव्यर्वहार नहीं किया है। उन्हें नियम बताए और कहा कि यहां वीडियो और फोटोग्राफी प्रतिबंध है। इसके लिए आपके खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। ऐसे संवेदनशील मामला और स्थल पर वीडियो-फोटो करने पर एफआईआर और सजा भी होती है। जब सोनी सोरी पहुंची थी, तब शाम सवा पांच से अधिक बज चुके थे। बावजूद उन्हें परमिशन दिया गया। सोनी सोरी से दो छात्राओं को मिलवाया गया, शेष छात्राएं और अधीक्षिका का टीआई बयान ले रही थी। यदि मेरे द्वारा कोई दुर्व्यवहार किया गया है तो उसे सीसी टीवी कैमरे में देखा जा सकता है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.