आसियान सम्‍मेलन को पीएम मोदी करेंगे संबोधितUpdated: Wed, 12 Nov 2014 11:36 AM (IST)

म्यांमार पहुंचे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 12वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे।

नाए प्यीडॉ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को 12वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे। इससे पहले उन्‍होंने मंगलवार को म्‍यांमार के राष्‍ट्रपति यू थेन सेन से मुलाकात कर सांस्‍कृतिक, वाणिज्यिक और दोनों देशों के बीच संपर्क बढ़ाने पर जोर दिया।

नाए प्यीडॉ ने राष्ट्रपति भवन में म्यामांर के राष्ट्रपति थेन सेन से बहुत अच्छे माहौल में हुई बातचीत की। उसके बाद मोदी ने ट्वीट किया, उनके बीच द्विपक्षीय संबंधों के विभिन्न पहलुओं पर गहन चर्चा हुई है। हमने संस्कृति, व्यापार और आपसी संपर्क बढ़ाने पर विचार-विमर्श किया।

उम्मीद की जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दस देशों के इस समूह से संबंधों को मजबूत करने की जमीन तैयार करेंगे। यहां वह व्यापार बढ़ाने के लिए क्षेत्रीय संपर्क पर जोर देने के साथ ही वहां के लोगों से भी जुडऩे का प्रयास करेंगे।

मोदी मंगलवार दोपहर ही म्यांमार की राजधानी पहुंचे हैं। तीन देशों की दस दिवसीय यात्रा में उनका यह पहला पड़ाव है। यहां से वे ऑस्ट्रेलिया जाएंगे। बाद में फिजी में प्रधानमंत्री जेवी बेनीमरामा से मुलाकात करेंगे। मोदी ने उम्मीद जताई कि आसियान और पूर्वी एशियाई देशों के नेताओं के साथ होने वाली बातचीत सार्थक रहेगी।

म्यांमार में आत्मीय अगवानी

एयर इंडिया के विमान से नेपी तॉ के अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचे मोदी का म्यांमार के स्वास्थ्य मंत्री थान औंग ने आत्मीय स्वागत किया। यहां पहुंचने पर मोदी ने ट्वीट किया- नेपी तॉ पहुंच चुका हूं। इस खूबसूरत देश में आकर बहुत अच्छा लगा। प्रधानमंत्री यहां दक्षिणपूर्वी एशियाई देशों के संगठन (आसियान) और भारत और पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) में भाग लेंगे।

पूरब की ओर देखो नीति

म्यांमार रवाना होने से पूर्व मोदी ने कहा कि आसियान भारत की 'पूर्व में काम करो' नीति का महत्वपूर्ण अंग है। उन्होंने कहा कि संबंधों को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए वे आसियान देशों के नेताओं से बातचीत करेंगे। इससे प्रत्येक सदस्य देशों से गहरे द्विपक्षीय संबंधों को नई ऊर्जा मिलेगी।

ये हैं सदस्य देश

आसियान के सदस्य देश हैं ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, सिंगापुर, थाईलैंड, फिलीपींस और वियतनाम। वहीं, पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन (ईएएस) में आसियान के दस देशों के साथ ही ऑस्ट्रेलिया, चीन, भारत, जापान, न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया, रूस और अमेरिका शामिल हैं।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.