कुलभूषण मामले पर ICJ में सुनवाई जारी, साल्वे ने रखा भारत का पक्षUpdated: Mon, 15 May 2017 01:56 PM (IST)

कुलभूषण जाधव की फांसी के मामले में हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट में सुनवाई जारी है।

नई दिल्ली। कुलभूषण जाधव की फांसी के मामले में हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट में सुनवाई जारी है। इस मामले में भारत और पाकिस्तान आमने-सामने है। भारत ने कोर्ट के सामने अपना पक्ष रखा है और वीयना समझोते का हवाला दिया है। अपनी बात पूरजोर तरीके से रखते हुए भारत ने कुलभूषण की फांसी रद्द करने की मांग की है। मामले की सुनवाई 11 जज कर रहे हैं।

भारत की तरफ से नीदरलैंड स्थित हेग कोर्ट में जाधव केस की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने कहा कि ऐसा कोई संकेत नहीं मिलता है कि कहां पर जाधव के लिए दया याचिका लगाई जा सके। उन्होंने कहा कि पूर्व भारतीय नेवी ऑफिसर कुलभूषण जाधव को इरान से किडनैप किया गया और उसके बाद जो उसका कबूलनामा सामने आया वह संदेहास्पद है क्योंकि ये सब पाकिस्तानी सेना की हिरासत में हुआ है।

साल्वे ने कहा कि किसी भी केस में मानवाधिकार उसकी बुनियाद होता है। लेकिन, जाधव मामले में मानवाधिकार की पाकिस्तान ने धज्जियां उड़ा दी। हालत ये रही कि मिलिट्री कोर्ट द्वारा ट्रायल के दौरान कुलभूषण को अपने बचाव में वकील देने से मना कर दिया गया।

साल्वे ने कहा कि वर्तमान स्थिति बड़ी चिंताजनक हो चुकी है जिसके चलते भारत ने अंतर्राष्ट्रीय अदालत के सामने इस मामले को लेकर इंसाफ की गुहार लगाई है। आईसीजे में उन्होंने आगे कहा कि भारत ने पाकिस्तान के सामने जाधव के लिए कई बार कांसुलर एक्सेस की मांग की लेकिन पाकिस्तान ने लगातार भारत की इन मांगों को मानने से इनकार कर दिया।

बता दें कि पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने पिछले महीने जाधव को मौत की सजा सुनाई थी जिस पर 9 मई को भारत की अपील पर आईसीजे ने कुलभूषण की फांसी पर रोक लगा दी थी। इससे पहले 1999 में पाकिस्तानी नौसैनिक विमान को मार गिराने के मामले में दोनों देश इस न्यायालय में आमने-सामने आए थे। संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख न्यायिक निकाय आईसीजे, सोमवार को नीदरलैंड के हेग स्थित पीस पैलेस के ग्रेट हॉल ऑफ जस्टिस में इस मामले की सार्वजनिक सुनवाई करेगा।

भारत ने 8मई को इस अंतरराष्ट्रीय अदालत में याचिका दायर की थी। भारत का आरोप है कि पाकिस्तान ने विएना समझौते का उल्लंघन कर उसके पूर्व नौसैनिक अधिकारी से राजनयिक संपर्क के आवेदन को लगातार 16 बार खारिज कर दिया। इसके अलावा पाकिस्तान ने जाधव के परिवार के वीजा आवेदन का भी कोई जवाब नहीं दिया।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.