चीन ने चुरा ली अमेरिकी एफ35 फाइटर जेट की डिजाइनUpdated: Fri, 13 Nov 2015 11:49 AM (IST)

चीन वैसे तो हर चीज की नकल करने में माहिर है ही, इस बार उसने अमेरिकी लड़ाकू विमान की डिजाइन भी चुरा ली है।

वॉशिंगटन। चीन वैसे तो हर चीज की नकल करने में माहिर है ही, इस बार उसने अमेरिकी लड़ाकू विमान की डिजाइन भी चुरा ली है। रविवार को दुबई एयर शो में चीन ने अपने एक लड़ाकू विमान जे-31 का प्रदर्शन किया था। इसके बाद अमेरिकी विशेषज्ञों ने चीन पर आरोप लगाया कि उसके विमान का डिजाइन अमेरिकी लड़ाकू विमान एफ-35 से चुराया गया है।

इसके साथ ही घरेलू एयरक्राफ्ट बनाने के मोर्चे पर भारत से बढ़त हासिल करने के चीन के दावे पर सवाल खड़े हो गए हैं। हालांकि, चीन का कहना है कि उसने इस लड़ाकू विमान का डिजाइन अपने देश में विकसित किया है। वहीं, अमेरिकी विशेषज्ञ इस दावे को खारिज कर रहे हैं।

अमेरिकी रक्षा मामलों के जानकारों का आरोप है कि चीन के हैकर्स ने अप्रैल, 2009 में रक्षा सामान बनाने वाली अमेरिकी कंपनी 'लॉकहीड मार्टिन' के नेटवर्क में सेंधमारी करके विमान की डिजाइन चुराई थी। चीन के विमान का एयरफ्रेम F-35 जैसा ही है और उसकी दो आंतरिक हथियार प्रणाली भी एक जैसी ही है, जिसमें गाइडेड और अनगाइडेड हथियारों को ले जाया जा सकता है।

इसके अलावा दो ट्रैकिंग मिरर्स का उपयोग और फ्लैट-फेसेटेड ऑप्टिकल विंडो भी अमेरिकी विमान की तरह ही हैं। एविएशन इंडस्‍ट्री कार्पोरेशन ऑफ चाइना (एवीआईसी) अब एफसी-31 को अमेरिका के लॉकहीड मार्टिन्‍स एफ-35 के विकल्‍प के रूप में बेचने की कोशिश कर रही है।

समझा जा रहा है कि चीन की वायुसेना के अलावा ईरान और पाकिस्‍तान की वायुसेना भी इस विमान को खरीदने पर रुचि दिखा रही है। हालांकि, इस विमान ने पहली बार चीन के झुहाई एयरशो में उड़ान भरी थी, लेकिन माना जा रहा है कि वह 2024 के पहले पूर्ण ऑपरेशनल कैपेबिलिटीज हासिल नहीं कर पाएगा।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.