डोनाल्ड ट्रंप ने गुआम के गर्वनर से कहा, आप की जनता पूरी तरह सु‍रक्षितUpdated: Sat, 12 Aug 2017 04:36 PM (IST)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुआम के गर्वनर एडी काल्वो से कहा कि गुआम की जनता पूरी तरह सुरक्षित हैं।

न्यू जर्सी। अपने गोल्फ रिजॉर्ट में छुट्टियां बिताने के दौरान भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उत्तर कोरिया पर बयानों के हमले कम नहीं कर रहे। ताजा बयान में उन्होंने अमेरिकी सेनाओं को कार्रवाई के लिए बिल्कुल तैयार बताया है।ट्रंप ने गुआम के गर्वनर एडी काल्वो से कहा कि आप लोग किसी तरह की चिंता न करे। अमेरिका एक हजार प्रतिशत उसके साथ है। वह पूरी तरह से सुरक्षित है।

उत्तर कोरिया ने ट्रंप पर कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु युद्ध के कगार पर पहुंचाने का आरोप लगाया है। टकराव के अंदेशे में जापान ने मिसाइल रोधी सिस्टम तैनात कर दिया है। कोरियाई प्रायद्वीप में बढ़े तनाव के बीच अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने कहा है कि दक्षिण कोरिया के साथ उसका दस दिवसीय सैन्य अभ्यास पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही होगा। खतरे को भांपते हुए दुनिया के प्रमुख देशों ने पेशबंदी शुरू कर दी है। चीन, रूस और जर्मनी ने अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच छिड़ी तीखी बहस पर चिंता जताई है।

इस बीच ट्रंप ने अपने चीनी समकक्ष शी चिनफिंग से टेलीफोन पर बात करके एक बार फिर से उत्तर कोरिया पर अपने प्रभाव का इस्तेमाल करने का अनुरोध किया है जिससे हालात को बिगड़ने से बचाया जा सके। चिनफिंग ने उत्तर कोरिया मामले में संयम बरते जाने की आवश्यकता जताई है। कहा है कि परमाणु हथियार और मिसाइल विकास कार्यक्रम पर उत्तर कोरिया से बात करके समस्या का समाधान निकाला जाना चाहिए।

ट्रंप ने सन 1949 की हॉलीवुड की युद्ध पर आधारित फिल्म 'सैंड्स ऑफ इवो जीमा' के लोकप्रिय डायलॉग- लॉक्ड एंड लोडेड का इस्तेमाल अमेरिकी सेनाओं की हमले की तैयारियों के लिए किया है। ट्रंप ने इसे स्पष्ट करते हुए अपने ट्वीट में लिखा है कि इसका अर्थ समझना बहुत, बहुत, बहुत आसान है। आशा है कि किम जोंग उन अब दूसरा रास्ता पकड़ेंगे। अब अगर उन्होंने कोई धमकी दी, गुआम या अमेरिका या अमेरिकी मित्र देश के खिलाफ कोई कदम उठाया तो उन्हें बहुत ज्यादा अफसोस करना पड़ेगा।

विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन और संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली के साथ बैठक करने के बाद ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया बहुत खतरनाक स्थिति में है और इसे अब और ज्यादा समय तक बनाए नहीं रखा जाएगा। उल्लेखनीय है कि प्रशांत महासागर में अमेरिका प्रशासित द्वीप गुआम पर उत्तर कोरिया की हमले की धमकी के बाद हालात ज्यादा खराब हुए हैं। करीब दो लाख की आबादी वाला गुआम अमेरिकी सेनाओं का प्रमुख अड्डा भी है।

उ. कोरिया के साढ़े तीन लाख लोग सेना में

युद्ध की तैयारियों के तहत उत्तर कोरिया में सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के कार्यकर्ता, पूर्व सैनिक और अन्य नौजवान सेना में अपनी सेवाएं देने के लिए आगे आ रहे हैं। चंद रोज में करीब साढ़े तीन लाख लोगों ने सेना के दफ्तरों में जाकर अपने नाम दर्ज कराए हैं और काम करने के लिए जिम्मेदारी की मांग की है। उल्लेखनीय है कि उत्तर कोरिया की सेनाओं में 11 लाख सक्रिय सैनिक हैं, जबकि इससे कई गुना ज्यादा सैन्य ट्रेनिंग प्राप्त नागरिक हैं, जो युद्ध के दौरान काम में आ सकते हैं।

दक्षिण कोरिया में खाद्य पदार्थों की भारी खरीद

उत्तर कोरिया से युद्ध की बढ़ती आशंका के बीच जनता ने भी हालात को भांपते हुए खाद्य पदार्थों का भंडारण शुरू कर दिया है। सामान्य दिनों से ज्यादा खाद्यान्न, फल, सब्जी और मीट आदि की खरीद हो रही है। सरकार ने भी हमले की स्थिति में बचाव के तरीकों का अभ्यास कराना शुरू कर दिया है। एजेंसियां लोगों को बता रही हैं कि युद्ध के दौरान क्या किया जाए और क्या न किया जाए।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.