श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में युवी को मिल सकता है आखिरी मौकाUpdated: Sun, 13 Aug 2017 12:13 AM (IST)

श्रीलंका के खिलाफ आगामी पांच वनडे मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का चयन रविवार को किया जाएगा।

नई दिल्ली। श्रीलंका के खिलाफ आगामी पांच वनडे मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का चयन रविवार को किया जाएगा। कर्नाटक के प्रतिभाशाली बल्लेबाज मनीष पांडे की श्रीलंका के खिलाफ आगामी वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम में वापसी हो सकती है, जबकि अनुभवी युवराज सिंह के पास अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को पटरी पर लाने का यह आखिरी मौका हो सकता है।

यह देखना दिलचस्प होगा कि चयनकर्ताओं का अजिंक्य रहाणे को लेकर क्या रुख रहता है। कप्तान विराट कोहली ने स्पष्ट कर दिया है कि वे विश्राम नहीं चाहते हैं, जिसके बाद बल्लेबाजी समूह में ज्यादा बदलाव की संभावना नहीं है।

युवराज पर सवाल : शिखर धवन चैंपियंस ट्रॉफी में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे, जबकि केएल राहुल को सभी प्रारूपों का खिलाड़ी माना जाता है। उन्होंने तीनों प्रारूपों में शतक जड़े हैं। रोहित शर्मा का एक बार फिर नीली जर्सी पहनना सुनिश्चित माना जा रहा है, लेकिन यह अभी तक नहीं पता कि चयनकर्ता पूरी तरह से फिट और फॉर्म में होने के बावजूद राहुल को आराम देंगे या नहीं। रहाणे वेस्टइंडीज में मैन ऑफ द सीरीज चुने गए थे, जबकि दिनेश कार्तिक ने मिले सीमित मौकों पर प्रभावित किया था।

हालांकि, चयनकर्ता यदि युवराज को लेने का फैसला करते हैं तो रहाणे और कार्तिक को बाहर बैठना पड़ सकता है। रोहित, पांडे और राहुल के टीम से बाहर होने पर रहाणे और कार्तिक को टीम में शामिल किया गया था। टीम में युवराज की जगह को लेकर कई पूर्व खिलाड़ी लंबे समय से सवाल उठा रहे हैं, लेकिन उन्हें कप्तान कोहली का समर्थन हासिल है। उन्होंने जो पिछले सात वनडे मैच खेले हैं उनमें उन्होंने सिर्फ 162 रन बनाए हैं और उन्हें सिर्फ एक बार गेंदबाजी का मौका मिला। इस दौरान उनका क्षेत्ररक्षण भी औसत दर्जे का रहा।

पांडे का दावा : असल में पांडे चैंपियंस ट्रॉफी की टीम का हिस्सा थे, लेकिन आईपीएल के दौरान चोटिल होने की वजह से उनहें टीम से बाहर होना पड़ा था। इसके बाद उनकी अगुआई में भारत 'ए' ने दक्षिण अफ्रीका में त्रिकोणीय सीरीज जीती थी और पांडे ने टूर्नामेंट में 307 रन बनाकर अपनी वापसी का दावा मजबूत किया था। इस दौरान पांच मैचों में वह सिर्फ एक बार आउट हुए थे। भारतीय चयनकर्ताओं की पॉलिसी यह है कि यदि कोई क्रिकेटर चोटिल होने की वजह से टीम से बाहर होता है तो वह एक बार मैच फिटनेस साबित करने के बाद टीम में वापसी कर सकता है।

रैना पर भी विचार : एक अन्य अनुभवी बल्लेबाज सुरेश रैना के नाम पर भी विचार हो सकता है। उन्होंने दो महीनों तक नीदरलैंड्स में अपनी फिटनेस पर काम किया है। रैना चैंपियंस ट्रॉफी के लिए स्टैंडबाई में थे और ऐसे में वह टीम में जगह पाने के हकदार हैं। वैसे रैना के खिलाफ जो एक बात जाती है वह यह है कि उन्होंने 2015 के बाद से एक भी अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच नहीं खेला है। इसलिए उनके चयन पर सवाल उठ सकते हैं। 2019 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए यह माना जा रहा है कि रैना और युवराज के लिए यह आखिरी मौका हो सकता है।

जडेजा और अश्विन को दिया जाएगा आराम: जहां तक गेंदबाजी विभाग की बात है तो रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा और मोहम्मद शमी को विश्राम दिया जाना तय है। ऐसे में युजवेंद्र सिंह, कुलदीप यादव और अक्षर पटेल को गेंदबाजी की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। यॉर्कर विशेषज्ञ जसप्रीत बुमराह के साथ मध्य क्रम के बल्लेबाज केदार जाधव और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी टीम में वापसी कर सकते हैं। धौनी के विकल्प के रूप में युवा विकेटकीपर-बल्लेबाज रिषभ पंत को चुने जाने की संभावना है। चयनकर्ताओं की नजर केरल के बासिल थंपी पर भी होगी। हालांकि, 'ए' टीम के साथ उनका दक्षिण अफ्रीका दौरा खासा अच्छा नहीं रहा।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.