अख्तर और ब्रेट ली नहीं, सहवाग को इस गेंदबाज से लगता था डरUpdated: Wed, 11 Oct 2017 09:04 PM (IST)

टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को शोएब अख्तर या ब्रेट ली नहीं, बल्कि मुथैया मुरलीधरन से डर लगता था।

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग बड़े-बड़े गेंदबाज़ों की धज्जियां उड़ाने के लिए जाने जाते थे। वीरू के विस्फोटक बल्लेबाज़ी के सामने दुनिया के दिग्गज गेंदबाज़ घबराते थे, लेकिन वीरू को भी एक गेंदबाज़ का सामना करने से डर लगता था। ये गेंदबाज़ ना तो ब्रेट ली थे और ना रावलपिंडी एक्सप्रेस शोएब अख्तर बल्कि सहवाग को जिनसे डर लगता था वो तो एक स्पिन गेंदबाज़ थे।

एक टीवी चैनल के साथ बातचीत में सहवाग ने खुलासा किया है कि श्रीलंका के पूर्व दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन से उन्हें डर लगता था। सहवाग ने बताया कि मुरलीधरन के खिलाफ बल्लेबाजी करना बहुत मुश्किल था। सहवाग ने कहा कि यूं तो मुझे किसी गेंदबाज से डर नहीं लगता था, लेकिन मुरलीधरन की बॉलिंग और चेहरे के हाव-भाव खौफ पैदा कर देते थे। वह अकसर ‘दूसरा’ फेंकते थे, जिसे खेलना बहुत मुश्किल होता था।

सहवाग ने पिछले दिनों यह बयान देकर सनसनी फैला दी थी कि सौरव गांगुली के बलिदान की वजह से महेंद्रसिंह धोनी महान क्रिकेटर बने थे। कप्तान सौरव ने पहले अपना बल्लेबाजी क्रम (अोपनिंग) वीरू के लिए और फिर (वन डाउन) धोनी के लिए छोड़ा था। उन्होंने कुछ मैचों में धोनी को तीसरे क्रम पर उतारा जिसके बाद धोनी के करियर में बदलाव आया था।

सहवाग भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी हैं। सहवाग के नाम टेस्ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक हैं। इतना ही नहीं वनडे में भी वीरु दोहरा शतक लगाने का कमाल कर चुके हैं। वनडे में दोहरा शतक लगाने का कारनामा वीरेंद्र सहवाग ने वेस्टइंडीज की टीम के खिलाफ इंदौर के होलकर स्टेडियम में किया था। सहवाग एक एेसे बेखौफ बल्लेबाज थे जो 90, 190 या 290 के स्कोर पर खेलते हुए छक्का मारने का माद्दा रखते थे और इस बात के लिए वो सचिन तेंडुलकर से कई बार डांट भी खा चुके थे, लेकिन फिर भी वो ऐसा करने से कभी भी नहीं घबराए।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.