खुलासा: इस वजह से खास अंदाज में विकेट की खुशी मनाते थे शोएब अख्तरUpdated: Sat, 12 Aug 2017 11:30 AM (IST)

झन्नाटेदार गेंदबाजी के साथ-साथ शोएब विकेट लेने के बाद स्पेशल तरीके से जश्न मनाने के लिए भी याद किए जाते हैं।

कराची। पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का क्रिकेट करियर कई वजहों से विवादास्पद रहा। झन्नाटेदार गेंदबाजी के साथ-साथ वे विकेट लेने के बाद स्पेशल तरीके से जश्न मनाने के लिए भी याद किए जाते हैं।

रावलपिंडी एक्सप्रेस अख्तर वर्षों तक विकेट लेने के बाद अपने दोनों हाथों को साइड में फैलाकर दौड़ते हुए चले जाते थे। अब अख्तर ने खुद इस बात का खुलासा करते हुए बताया कि जेट प्लेन के प्रति प्यार और फाइटर पायलट बनने के सपने के चलते वे विकेट लेने के बाद इस तरह से जश्न मनाते थे।

2011 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुके 41 वर्षीय शोएब ने ट्‍विटर पर लिखा, ‘F-16 अन्य सबसे बेहतर है। मैं फाइटर पायलट बनना चाहता था और जेट्‍स से प्यार के चलते मैं विकेट की खुशी इस तरह मनाता था।'

अख्तर ने कहा, जब मिराज और एफ-16 मेरे घर के उपर से उड़ान भरते थे तो इनकी आवाज मुझे दीवाना बना देती थी। अख्तर ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में पाक की तरफ से कुल 444 विकेट लिए। उनके द्वारा 2003 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ मैच में डाली गई 161.3 किमी प्रति घंटे (100.23 मी. प्रति घंटे) की रफ्तार वाली गेंद अभी तक अंतरराष्ट्रीय मैच में डाली गई सबसे तेज गेंद है।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.