Live Score

गुजरात 7 विकेट से जीता मैच समाप्‍त : गुजरात 7 विकेट से जीता

Refresh

तो श्रीमान आप अपने बच्चों के लिए भी ले जाएं!Updated: Sat, 25 Jan 2014 10:41 AM (IST)

अगर दिखाना ही है तो लोगों के प्रति परोपकारी रहो ताकि आपका यश चारों दिशाओं में गूंजे।

गिरीशचंद्र घोष बांग्ला के प्रसिद्ध कवि-नाटककार थे। उनके एक धनी मित्र थे। वह अपनी रईसी अपने व्यवहार में भी दिखाते थे। जैसे ही वह कहीं जाते तो उनका नौकर उनके लिए चांदी के बर्तन साथ लेकर चलता था ताकि वह अपना खाना उसी में खाएं।

घोष जी को यह बात अच्छी नहीं लगती थी पर वह मित्र का दिल नहीं दुखाना चाहते थे। तब उन्होंने तय किया कि वह उसकी आदतों को सुधार कर रहेंगे।

एक दिन घोष जी ने अपने रईस दोस्त को खाने पर आमंत्रित किया। हमेशा की तरह उनके मित्र अपने नौकर के साथ पहुंचे। नौकर बर्तन लेकर आया था। लेकिन घोष जी अपने मित्र के आते ही उन्हें और लोगों के बीच ले गए। जब तक मित्र कुछ समझ पाते तब तक उनके सामने पत्तल में खाना परोस दिया। बाकी लोगों के सामने भी पत्तल में खाना रखा था।

तब उनके रईस मित्र संकोच में पड़ गए। उन्होंने नौकर को आवाज देना चाहा लेकिन तब तक सब लोग खाने लगे और उनसे भी खाने का अनुरोध करने लगे। बेचारे को उनके साथ पत्तल में खाना पड़ा। खाने के बाद जैसे ही वे उठे, तो घोष जी उनके बर्तनों में व्यंजन लेकर उनके सामने हाजिर हुए।

उन्होंने हंसते हुए मित्र से कहा- क्षमा करें थोड़ी गलतफहमी हो गई। जब तुम्हारे नौकर को घर की महिलाओं ने बर्तन लेकर आते देखा तो उन्हें लगा कि शायद तुम अपने बच्चों के लिए खाना ले जाना चाहते हो। उन्होंने इसमें खाना दे दिया है। मित्र लज्जित होकर चले गए। उन्हें गलती का अहसास हो गया। उन्होंने प्रदर्शन करना छोड़ दिया।

संक्षेप में

धन का दिखावा बहुत ही निम्म श्रेणी के लोग करते हैं। भले ही वह धन का दिखावा कर स्वयं संतुष्ठ हो जाते है पर समाज उन्हें इस तुच्छ बात के लिए नकार देता है। जैसा की गिरीशचंद्र घोष जी के धनवान मित्र के साथ हुआ। अगर दिखाना ही है तो लोगों के प्रति परोपकारी रहो ताकि आपका यश चारों तरफ गूंजे।

अटपटी-चटपटी

  1. स्टेशन आते ही यात्री को अलार्म बजाकर उठाएगा रेलवे

  2. ममेरे भाई के प्‍यार में पति पर कर दिया जानलेवा हमला

  3. ग्रामीणों ने की शिकायत, कुछ के शौचालय चोरी, कुछ लापता

  4. राष्ट्रीय खिलाड़ी की फर्जी FB आईडी पर अश्लील फोटो, कोच निकला आरोपी

  5. दो व्यक्ति, एक अकाउंट नंबर, एक पैसा डालता दूसरा निकाल लेता

  6. 24 गांव में हेलिकॉप्टर से न्योता देंगे कम्प्यूटर बाबा

  7. वो दृष्टिहीन है और नाक से बांसुरी बजाकर कमाता है रोजीरोटी

  8. साहब! मेरे लिए कन्या ढूंढ़ दो, मुझे शादी करनी है

  9. डेढ़ साल का बेटा ढूंढ़ रहा मां को, बिलासपुर में पति को था इंतजार

  10. भागवत कथा सुनाकर मास्टर गरीब बच्चों के लिए जुटा रहे धन

  11. बेटे की कमी पूरी करने के लाते हैं घर जमाई

  12. दुनिया को दिव्यांगों का दम दिखाने, तालाब में खुद सीखा तैरना

  13. बेटे को किसान बनाने मां ने छोड़ी 90 हजार प्रतिमाह की नौकरी

  14. सोनू निगम को लेकर पोस्ट पर विवाद, चाकू से हमला

  15. मौत ने दूसरी बार दिया धोखा: पटरी पर लेटा, ड्राइवर ने रोकी ट्रेन

  16. पीएम को ट्वीट करने के बाद बैंक ने मानी गलती, लौटाए रुपए

  17. गाय के गोबर को बना दिया ड्राइंग रूम की शोभा, देशभर में मांग

  18. CGBSE 10th Result 2017 : बिना कोचिंग के विनीता बनीं टॉपर

  19. मिला सहारा तो लाचार जिंदगी की गाड़ी चल पड़ी खुशियों की राह

  20. पुलिस पीड़ा पर कांस्टेबल की कविता, मिले 25 हजार से ज्यादा लाइक्स

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.