गुरु पुष्य का महाशुभ योग, इन उपायों से होगी मां लक्ष्मी की कृपाUpdated: Thu, 07 Dec 2017 08:41 AM (IST)

पुष्य नक्षत्र में देवगुरु बृहस्पति के आ जाने से यह समय अत्यंत प्रभावशाली बन जाता है। यह योग साधकों के लिए बेहद शुभ होता है।

मल्टीमीडिया डेस्क। इस साल का अंतिम गुरु पुष्य का अत्यंत शुभ संयोग बार 7 दिसबर 2017 को बन रहा है। वैसे तो गुरु पुष्य योग अपने आप में ही अत्यंत शुभ होता है लेकिन इस बार गजकेसरी योग बन रहा है। मान्यता है कि इस इस योग में किया गया कोई भी कार्य सिद्धि प्रदान करता है।

सोने-चांदी की खरीदारी के साथ ही अन्य खरीदारी के लिए भी यह योग काफी शुभ माना जाता है। आध्यात्मिक दृष्टि से देखा जाए, तो माना जाता है कि इस दिन किया गए कार्य, जप-तप त्वरित सिद्धि प्रदान करते हैं। 7 दिसंबर 2017 को 19 बजकर 53 मिनट पर यह योग समाप्त होगा।

इस दिन खरीदी गई वस्तु का स्थायित्व बना रहता है। गुरुवार को विशेष योग में कुछ न कुछ खरीदारी करना इस दिन शुभ माना जाता है। मान्यता है कि इस शुभ दिन पर संपत्ति और समृद्धि की देवी मां लक्ष्मी का अवतरण हुआ था। पुष्य नक्षत्र के दौरान किए जाने वाले कार्यों से जीवन में समृद्धि का आगमन होता है।

पुष्य नक्षत्र में देवगुरु बृहस्पति के आ जाने से यह समय अत्यंत प्रभावशाली बन जाता है। यह योग साधकों के लिए बेहद शुभ माना जाता है, लेकिन अन्य लोग भी इससे कई लाभ पा सकते हैं। ऐसी मान्यता है कि धन की देवी इस अत्यंत शुभ योग में अपने भक्त पर कृपा बरसाती हैं। इसके अलावा इस नक्षत्र में किसी भी प्रकार का पूजा कर्म फलदायी ही सिद्ध होता है।

मां लक्ष्मी की कृपा के लिए यह करें

पूजा घर में लक्ष्मी की मूर्ति या तस्वीर के सामने चार बातियों वाला घी का दीपक लगाएं। इसके साथ ही श्रद्धा के साथ श्रीयंत्र का 108 बार जप करें। मान्यता है कि ऐसा करने से लक्ष्मी मां शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

पूर्व दिशा की ओर बैठ कर 7 लौंग और 7 कपूर के टुकड़े एक पात्र में रखें। गायत्री मंत्र का जाप करते हुए इसे जला दें। इसके बाद अपने माथे पर तिलक लगाएं। मान्यता है कि ऐसा करने से मा लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में संपन्नता आती है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.