पद्मावती का विरोध: आज चित्तौड़गढ़ में बंद रहे निजी स्कूलUpdated: Fri, 03 Nov 2017 11:42 AM (IST)

गैर अनुदानित शिक्षण संस्था संचालक समिति के आह्वान पर यह बंद किया गया हैं।

जयपुर। संजय लीला भंसाली की 'पद्मावती' की रिलीज का समय नजदीक आने के साथ ही इसका विरोध भी बढ़ता जा रहा है। राजस्थान के उदयपुर संभाग के चित्तौड़गढ़ जिले में आज फिल्म के विरोध में निजी स्कूल बंद रहे। गैर अनुदानित शिक्षण संस्था संचालक समिति के आह्वान पर यह बंद किया गया हैं।

सदस्यों का कहना है कि चित्तौड़गढ़ के गौरवशाली इतिहास के लिए पूरे विश्व में शक्ति, भक्ति एवं त्याग की धरा के रूप में जाना जाता है, उसी चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मिनी के चरित्र को फिल्म पद्मावती में गलत ढंग से दिखाया जा रहा है। इसके विरोध में 3 नवंबर को चित्तौड़गढ़ के सामाजिक, धार्मिक संगठनों द्वारा बंद का आह्वान किया गया है।बंद में जिले के सभी निजी स्कूल भी शामिल रहेंगे।

वैष्णव (बैरागी) युवा संस्थान के जिला प्रवक्ता दुर्गाप्रसाद वैष्णव ने बताया की वैष्णव (बैरागी) समाज भी फिल्म का विरोध कर रहा है। वैष्णव (बैरागी) युवा संस्थान के जिला कार्यालय में बैठक आयोजित की गई। इसमें यह तय किया गया कि वैष्णव (बैरागी) समाज फिल्म के विरोध में सर्वसमाज की ओर से 3 नवम्बर को चित्तौड़गढ़ बंद का पूर्ण समर्थन करता है।

साथ ही, चित्तौड़गढ़ जिले में किसी भी सिनेमाघर में ना तो फिल्म लगने देंगे और ना ही कहीं पोस्टर-बैनर आदि लगने देंगे। राजस्थान में विरोध प्रदर्शन के बीच गुरुवार को मुंबई में भी राजपूताना समाज के लोग एकजुट हुए। फिल्म में कुछ गलत न दिखाया जाए इसके लिए चेतावनी देने उनका एक प्रतिनिधि मंडल फिल्म निर्माता-निर्देशक संजय लीला भंसाली की कम्पनी के सीईओ से मिला। समाज की ओर से कहा गया कि फिल्म में ऐसा कुछ भी न दिखाया जाए जिससे राजपूतों की भावना आहत हो। राजपूताना समाज के नेता आरपी सिंह ने कहा कि उन्होंने हमारी मांगों को लेकर आश्वस्त किया है और हमें लिखित में देने की बात कही है। साथ ही स्क्रिनिंग की बात भी कही है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.