मोदी के कान में क्या कह गए मुलायमUpdated: Sun, 19 Mar 2017 08:13 PM (IST)

मोदी मंच पर मौजूद सभी नेताओं से न केवल खुले अंदाज से मिले वरन पीछे कतार में बैठे बुजुर्ग नेता नारायणदत्त तिवारी के पास पहुंचे

लखनऊ । शपथ ग्रहण समारोह के बाद बधाइयों के दौर में मानो सारी चुनावी कड़ुवाहटें बह गईं। योगी के बुलावे पर समारोह में पहुंचे सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री मोदी से बगलगीर हो बधाई दी तो उन्होंने भी अपनी ओर से गर्मजोशी दिखाई।

मुलायम सिंह का कुछ बुदबुदाना और प्रधानमंत्री द्वारा अखिलेश व मुलायम के हाथों को गर्मजोशी से पकड़ कुछ समझाना, यह वह नजारा रहा जो अमूमन धुर विरोधी दल के मंच पर नहीं दिखता। मुलायम ने मोदी के कान में क्या कहा, इसे कोई समझ तो नहीं पाया लेकिन प्रधानमंत्री ने जब उन्हें सिर हिलाते हुए आश्वस्त किया तो लगा ही नहीं कि दोनों में कोई सियासी विरोध है।

लगभग 47 मिनट चले योगी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री भले ही नहीं बोले लेकिन मंच पर एक से दूसरे सिरे तक चहलकदमी में बिन बोले बहुत कुछ संदेश दे दिया। मोदी मंच पर मौजूद सभी नेताओं से न केवल खुले अंदाज से मिले वरन पीछे कतार में बैठे बुजुर्ग नेता नारायणदत्त तिवारी के पास पहुंचे और उनका हालचाल जाना।

पूरे समारोह में शपथ लेने वाले मंत्रियों को मोदी ने अपने पैर छूने से रोका लेकिन अपनी कुर्सी से उठकर प्रत्येक मंत्री का अभिवादन स्वीकार करने में जरा भी आलस्य नहीं किया। मुलायम ने प्रधानमंत्री के कान में कुछ कहा तो उसी वक्त अखिलेश भी आ गए।

मोदी ने पिता पुत्र के हाथों को पकड़ते हुए अखिलेश से कुछ कहा, जवाब में अखिलेश भी सहमति से सिर हिलाते दिखे। इतना नहीं प्रधानमंत्री ने अखिलेश की पीठ भी थपथपाई। मंच पर मुलायम व मोदी एक बार नहीं बल्कि तीन बार मिले। प्रधानमंत्री मंचासीन प्रमुख नेताओं की कुशलक्षेम लेने के बाद मंच से उतरने से पहले नवनियुक्त मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को हिदायत देना नहीं भूले।

नजर नहीं आए बसपा व कांग्रेस नेता

नई सरकार के मंत्रियों के शपथग्रहण समारोह में कांग्रेस, बसपा जैसे दलों के किसी वरिष्ठ नेता उपस्थित नहीं होना भी लोगों को अखरा। लोगों का कहना था कि यदि इन दोनों दलों के नेता यदि आज यहां उपस्थिति होते तो गौरवशाली राजनीतिक परंपरा का एक उदाहरण युवाओं को देखने को मिलता।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.