और घनी हुई स्मॉग की चादर, दो दिन तक राहत के आसार नहींUpdated: Wed, 08 Nov 2017 10:17 PM (IST)

वायु प्रदूषण ने दिल्ली-एनसीआर को पूरी तरह से अपनी गिरफ्त में ले लिया है। बुधवार को स्मॉग की चादर और घनी हो गई।

नई दिल्ली। वायु प्रदूषण ने दिल्ली-एनसीआर को पूरी तरह से अपनी गिरफ्त में ले लिया है। बुधवार को स्मॉग की चादर और घनी हो गई। प्रदूषण का स्तर आपातकालीन स्थिति में पहुंच गया है। दिल्ली पिछले साल से ज्यादा प्रदूषित हो गई है। पिछले साल प्रदूषण का औसत स्तर 412 था, जो बुधवार को 531 पर पहुंच गया।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने स्वीकार किया है कि दिल्ली एक बार फिर से स्मॉग चैंबर बन गई है। एम्स ने इस स्थिति को साइलेंट किलर करार दिया है। बदतर हुए हालात को देखते हुए बच्चों, बुजुर्गों, दमा व अस्थमा से पीड़ित लोगों को घर से न निकलने की सलाह दी गई है।

दिल्ली के स्कूल शनिवार तक बंद-

स्मॉग के चलते दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों को शनिवार तक बंद करने का आदेश दिया है। गौतमबुद्ध नगर जिले में स्कूलों के समय में बदलाव किया गया है। कुछ निजी स्कूलों ने आठवीं तक की कक्षाएं गुरुवार तक स्थगित कर दी हैं। हापुड़ में भी शुक्रवार तक स्कूलों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस वे पर अलग-अलग जगहों पर 17 वाहन टकराए। अगले दो दिन तक स्मॉग के ऐसे ही हालात बने रहने के आसार हैं।

दृश्यता कम होने से 200 उड़ानों पर असर-

स्मॉग का असर रेल और हवाई यातायात पर पड़ा है। कम दृश्यता होने की वजह से आइजीआइ एयरपोर्ट पर 200 उड़ानें प्रभावित हुईं। धुंध की वजह से दस ट्रेनें रद करनी पड़ीं।

ट्रकों की एंट्री पर रोक-

वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के उपराज्यपाल ने गुरुवार से पार्किंग शुल्क में चार गुना बढ़ोतरी करने का आदेश दिया। आवश्यक वस्तुओं को लाने वाले ट्रकों को छोड़कर दिल्ली में अन्य सभी ट्रकों के प्रवेश पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी। उक्त आदेश तब तक लागू रहेंगे, जब तक हालात नियंत्रण में नहीं आ जाते। साथ ही अगले आदेश तक सभी तरह के निर्माण कार्यों पर भी रोक लगा दी है।

आपातकालीन स्थिति में दिल्ली-एनसीआर का प्रदूषण-

मंगलवार को अति गंभीर श्रेणी में रहा दिल्ली-एनसीआर का वायु प्रदूषण बुधवार को आपातकालीन स्थिति में पहुंच गया। धुंध व धुएं के मिश्रण से बनी स्मॉग की चादर की वजह से बुधवार को दृश्यता का स्तर 50 मीटर से भी कम रह गया।

सीपीसीबी और मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को मिक्सिंग हाइट 449 मीटर थी, जोकि बुधवार को 335 मीटर रह गई। हवा की गति 1.4 किलोमीटर प्रति घंटे से घटकर 1.3 किलोमीटर प्रति घंटे थी। स्मॉग की चादर करीब आधा किलोमीटर की ऊंचाई से नीचे आकर 335 मीटर के दायरे में सिमट गई। धुंध में जमा प्रदूषक तत्व और घने हो गए।

रिकॉर्ड तोड़ वायु प्रदूषण-

दैनिक जागरण से बातचीत में सीपीसीबी के सदस्य सचिव ए. सुधाकर ने बताया कि पिछले वर्ष जब दिल्ली का औसत प्रदूषण स्तर 412 था। आनंद विहार इलाके में प्रदूषक तत्व पीएम 10 का अधिकतम स्तर करीब 1100 था। बुधवार को दोनों रिकार्ड टूट गए। पीएम 10 और पीएम 2.5 का औसत स्तर 500 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से ऊपर दर्ज किया गया।

पंजाबी बाग में तो यह 1530 रिकार्ड किया गया। औसत प्रदूषण स्तर 531 रहा। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का औसत स्तर 480 दर्ज किया गया। प्रदूषण का सामान्य स्तर 200 तक सामान्य है। पीएम स्तर 10 और पीएम 2.5 का सामान्य स्तर 60 है।

यह है मिक्सिंग हाइट-

मिक्सिंग हाइट वह ऊंचाई होती है, जहां प्रदूषक कण आपस में मिलते हैं और हवा की गति अधिक न होने के कारण ठहर जाते हैं। डेढ़ से दो किलोमीटर की ऊंचाई तक स्थिति सामान्य होती है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.