केरल में आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या, माकपा समर्थकों पर शकUpdated: Tue, 16 Feb 2016 01:58 PM (IST)

कन्नूर जिले के पप्पीनीसेरी में अज्ञात लोगों ने आरएसएस कार्यकर्ता की घर में घुसकर हत्या कर दी।

कन्नूर। विधानसभा चुनाव की ओर बढ़ रहे केरल में सोमवार देर रात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक युवा कार्यकर्ता की क्रूरता से हत्या कर दी गई। पेप्पीनेसेरी कस्बे में 27 वर्षीय सुजीत को देर रात उसके बूढ़े मां-बाप के सामने पीटा और हथियार प्रहार से घायल कर दिया गया। इस दौरान सुजीत के भाई व अन्य लोगों ने हमलावरों को रोकने की कोशिश भी की लेकिन वे सफल नहीं हुए। अस्पताल पहुंचने से पहले ही सुजीत की मौत हो गई। पुलिस ने इलाके के दस माकपा समर्थकों को हिरासत में लिया है।

घटना का कारण वैचारिक मतभेदों को माना जा रहा है। भाजपा ने घटना की निंदा करते हुए कन्नूर, पेप्पीनेसेरी और अझीकोड में विरोध स्वरूप हड़ताल कर दी है। भाजपा के जिलाध्यक्ष सत्यप्रकाश ने हत्या के लिए माकपा को जिम्मेदार ठहराया है।

कहा गया है कि 2014 में भाजपा कार्यकर्ता के हत्या मामले में कन्नूर के जिला सचिव पी जयरंजन की अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद गुस्साए माकपाइयों ने आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या कर दी। जबकि माकपा के राज्य सचिव कोडिएरी बालाकृष्णन मामले की पृष्ठभूमि राजनीतिक न होकर सामाजिक बताई है। उन्होंने कहा है कि घटना से माकपा का कोई लेना-देना नहीं है। कन्नूर में 1999 से ही भाजपा नेताओं-कार्यकर्ताओं की हत्या का सिलसिला जारी है।

राजधानी दिल्ली में भी भाजपा ने संघ कार्यकर्ता की हत्या पर कड़ी नाराजगी जताई है। राष्ट्रीय प्रवक्ता एमजे अकबर ने कहा है कि केरल में अभी तक भाजपा के 200 कार्यकर्ता मारे जा चुके हैं। राज्य में भाजपा के बढ़ते प्रभाव से वामपंथियों के डर जाने की वजह से कार्यकर्ताओं पर हमले हो रहे हैं। इस तरह की घटनाओं के पीछे राज्य सरकार का समर्थन होता है, इसलिए दोषियों पर प्रभावी कार्रवाई नहीं होती।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.