भारत के सबसे घुमक्कड़ प्रधानमंत्री बनने की राह पर मोदीUpdated: Tue, 26 Jul 2016 02:49 PM (IST)

मोदी ने बतौर पीएम अपने दो साल के कार्यकाल में 51 विदेश यात्राएं करते हुए 6 महाद्वीपों के 42 देशों का दौरा किया है।

राहुल संकृत्यायन ने अपने निबंध 'अथातो घुमक्कड़ - जिज्ञासा' में इन्सान के घुमक्कड़ी स्वभाव के बारे में बताया है। उन्होंने घुमक्कड़ी के धर्म को सभी धर्मों का आधारभूत धर्म कहा है और पर्यटन की प्रकृति को संसार का सबसे बड़ा सुख बताया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राओं को लेकर भी कुछ लोग कुछ ऐसे ही विचार रखते हैं। दरअसल, मोदी ने बतौर पीएम अपने दो साल के कार्यकाल में 51 विदेश यात्राएं करते हुए 6 महाद्वीपों के 42 देशों का दौरा किया है। उनके आगामी कार्यक्रमों (संभावित) को देखते हुए कहा जा रहा है कि पांच साल पूरे होने तक मोदी भारत के सबसे ज्यादा विदेश यात्राएं करने वाले प्रधानमंत्री बन जाएंगे। एक नजर इसी से जुड़ी अहम बातों पर -

- प्रधानमंत्री मोदी अब तक कुल 3.07 लाख से ज्यादा किमी की यात्रा कर ली है। 2014 में वे 9 बार, 2015 में 25 बार और 2016 में 14 बार विदेश जा चुके हैं।

- मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के पहले साल में 43 दिन विदेश में बिताए हैं। मनमोहन सिंह ने यूपीए-1 के अपने पहले साल में 30 दिन विदेश दौरों पर खर्च किए थे।

- इससे पहले गठबंधन की सरकारें होने के कारण पीवी नरसिम्हा राव और अटल बिहाली वाजपेयी को ज्यादातर वक्त देश में ही गुजारना पड़ा था।

- अन्य पूर्ववर्ती प्रधानमंत्रियों में वीपी सिंह, चंद्रशेखर, एचडी देवगौड़ा और आईके गुजराल ज्यादा समय तक कुर्सी पर रह न सके।

- इंदिरा गांंधी ने खूब यात्रियां की हैं। वे अफगानिस्तान से लेकर त्रिनिदाद-टोबेको तक गई हैं।

2015 में मोदी ने चीन-अमेरिका को पछाड़ा: 2015 में विदेश यात्राओं के लिहाज से मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और चीनी राष्ट्रपति शि जिनफिंग से आगे रहे। वहीं उन्होंने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की बराबरी की। मोदी ने जहां 25 विदेश यात्राएं कीं, वहीं चीनी राष्ट्रपति के लिए यह आंकड़ा 14 और अमेरिका राष्ट्रति के लिए यह आंकड़ा 11 रहा।

कश्मीर कैंपेन के लिए पाक के ग्रुप ने इस्तेमाल की मोदी, शाहरुख की तस्वीर

अगले 3 सालों की संभावित विदेश यात्राएं: 2016 में मोदी वियतनाम, चीन (जी-20), लाओस (ईस्ट एशिया समिट), पाकिस्तान (सार्क समिट) और जापान (जापान-भारत की सालान शिखरवार्ता) जा सकते हैं।

2017 में मोदी के इजराइल, फिलिस्तीन, चीन (ब्रिक्स), कजाकिस्तान (शंघाई कॉपरेशन ऑर्गनाइजेशन समिट), फिलिपिंस (ईस्ट-एशिया समिट), मॉस्को (भारत-रूस की सालान शिखरवार्ता) और जर्मनी (जी-20 समिट) जाने की संभावना है।

इसी तरह 2018 में मोदी द. अफ्रीका (ब्रिक्स), जापान और चीन के दौरे पर जा सकते हैं।

जंक फूड खाने वाले पिता की बच्चियों में होता है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.