दुष्कर्म पीड़िता की बच्ची को गोद लेने के लिए देश-विदेश से कर रहे संपर्कUpdated: Sat, 19 Aug 2017 07:33 AM (IST)

अमेरिका से एक व्यक्ति ने बच्ची को गोद लेने के लिए हॉस्पिटल डायरेक्टर को ईमेल भेजा है।

चंडीगढ़। दस वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता की कोख से जन्म लेने वाली जिस नवजात बच्ची का चेहरा अपनों ने भी देखने से इनकार कर दिया है, उस बच्ची को गोद लेने के लिए कई परिवार सामने आए हैं। अमेरिका से एक व्यक्ति ने बच्ची को गोद लेने के लिए हॉस्पिटल डायरेक्टर को ईमेल भेजा है।

शुक्रवार को नवजात बच्ची को डॉक्टरों की टीम ने आईसीयू से वार्ड में शिफ्ट कर दिया। डॉक्टरों की टीम लगातार उस पर नजर रख रही है। वहीं दस वर्षीय पीड़िता का शाम करीब छह बजे अचानक रक्तचाप बढ़ गया। इस पर डॉक्टरों ने उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया। वहीं बच्ची को गोद लेने के लिए दिल्ली, कोलकाता के साथ-साथ विदेश से भी लोग सामने आए हैं।

अमेरिका के एक व्यक्ति ने गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के प्रिंसिपल डायरेक्टर डॉ. एके जनमेजा को शुक्रवार सुबह ईमेल कर बच्ची को गोद लेने की इच्छा जताई। नवजात बच्ची और उसकी मां की हालत पर नजर रख रही मेडिकल कमेटी के हेड प्रोफेसर हरीश दसारी के पास भी कोलकाता से एक व्यक्ति ने ईमेल कर बच्ची को गोद लेने की इच्छा जताई है।

वहीं चंडीगढ़ का भी एक व्यक्ति प्रो. दसारी से मिला और बच्ची को गोद लेने की इच्छा जताई।नोएडा के इंजीनियर दंपती ने भी गोद लेने की इच्छा जताई हमारे सहयोगी प्रकाशन दैनिक जागरण में समाचार पढ़ने के बाद नोएडा और दिल्ली से भी लगातार बच्ची को गोद लेने के इच्छुक पेरेंट्स की कॉल आ रही हैं।

नोएडा से पेशे से इंजीनियर दंपती ने कई बार कॉल कर बच्ची को गोद लेने के बारे में पूछा। दीपक ने कहा कि उनके दो भाइयों की कोई संतान नहीं है, इसलिए वह बच्ची गोद लेना चाहते हैं। दिल्ली निवासी माथुर दंपती ने भी कई फोन कर बच्ची को गोद लेने की प्रक्रिया जानी।

हेल्पलाइन नंबर 181 पर आ रही हैं कॉलयूटी के हेल्पलाइन नंबर 181 पर लगातार बच्ची को गोद लेने के इच्छुक लोगों की कॉल आ रही हैं। दिनभर विभाग के कर्मचारियों ने कॉल रिसीव की और इच्छुक लोगों को जरूरी नियमों की जानकारी दी।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.