तत्काल जारी करें जनप्रतिनिधियों के अयोग्य होने की अधिसूचनाUpdated: Sun, 18 Oct 2015 08:47 PM (IST)

आपराधिक मामलों में दोषी करार दिए जाने की स्थिति में उसे तत्काल अयोग्य ठहराने की अधिसूचना जारी की जाए।

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने संसद और राज्य विधानसभाओं से कहा है कि ऐसी व्यवस्था बनाई जाए, जिससे किसी जनप्रतिनिधि को आपराधिक मामलों में दोषी करार दिए जाने की स्थिति में उसे तत्काल अयोग्य ठहराने की अधिसूचना जारी की जाए। लोकसभा, राज्यसभा तथा राज्य विधानसभा के सचिवालयों को जारी निर्देश में आयोग ने कहा है कि कुछ मामलों में दोषी सांसद, विधायक को अयोग्य घोषित करने की अधिसूचना जारी करने में सदन के सचिवालय द्वारा देरी हुई है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 जुलाई, 2013 के अपने फैसले में जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 8 की उपधारा 4 को रद कर दिया था। इस प्रावधान के चलते सांसदों, विधायकों और विधान परिषद सदस्यों को दोषी करार दिए जाने की स्थिति में ऊपरी अदालत में अपील के आधार पर अयोग्य ठहराए जाने से सुरक्षा मिल जाती थी। शीर्ष अदालत के आदेश के बाद से भ्रष्टाचार व कुछ और मामलों में दोषी करार दिए जाने के साथ ही किसी भी सदन के सदस्य की सदस्यता चली जाती है।

कोर्ट ने कहा कि देरी के कारण ऐसी स्थिति बनी, जहां अयोग्य करार दिया गया सदस्य भी सदन का सदस्य बना रहा जो संविधान के अनुच्छेद 103 तथा सुप्रीम कोर्ट की ओर से तय कानून का उल्लंघन है। चुनाव आयोग ने संसद और राज्य विधानसभाओं से कहा है कि दोषी ठहराए जाने पर बिना किसी भेदभाव के अयोग्य ठहराने से जुड़े कानून को तत्काल क्रियान्वित किया जाए।

आयोग ने कहा कि राज्य के मुख्य सचिव को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि लोकसभा, राज्यसभा, विधानसभा एवं विधान परिषद के सचिवालयों को किसी सदस्य को अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने की सूचना तत्काल दी जाए। उसने कहा कि दोषसिद्धि के बारे में सूचना तथा इसके बाद अयोग्य ठहराए जाने की अधिसूचना में से हर एक में सात हफ्ते से अधिक का समय नहीं लगना चाहिए।

न्यायालय के आदेश के बाद सबसे पहले 21 अक्टूबर, 2013 को कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य रशीद मसूद को अयोग्य ठहराया गया। मसूद को इससे एक महीने पहले भ्रष्टाचार के एक मामले में अदालत ने दोषी करार दिया था। इसके बाद चारा घोटाले में दोषी करार दिए जाने के बाद 22 अक्टूबर, 2013 को राजद प्रमुख लालू प्रसाद और जदयू नेता जगदीश शर्मा को लोकसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराया गया।

अटपटी-चटपटी

  1. लड़की को भारी पड़ी सेल्फी, पुलिस ने ली घर की तलाशी और किया गिरफ्तार

  2. 12 साल का 'बच्चा' चार साल बड़ी लड़की को गर्भवती कर पिता बना

  3. अंडे में निकला हीरा, शादी करने जा रही महिला ने माना शुभ

  4. चार साल के बच्चे ने आईफोन की मदद से बचा ली मां की जान

  5. बच्चे को कलेजे से लगाकर ये चमत्कार कर सकती है मां

  6. रेप के दौरान मदद के लिए नहीं चीखी पीड़िता, इसलिए आरोपी बरी

  7. गेम खेलते हुए गुस्से में कम्प्यूटर स्क्रीन पर दे मारा सिर, फिर...

  8. बचपन में खो दिए थे पैर, अब करेंगे इंग्लिश चैनल पार

  9. विदेशी नस्ल का डॉग OLX पर मंगाया, छीनकर भाग गया

  10. गलत तरीके से सोएंगे, तो जल्दी दिखने लगेंगे बूढ़े

  11. मालिक ने लावारिस छोड़ दिया था लेकिन ये डॉगी अब कर रहा है जॉब

  12. 18 साल बाद मिला खून का रिश्ता, फिर हुआ कुछ ऐसा

  13. लकड़ी का ढेर नहीं ये बंदूकें हैं, चुनाव के दौरान हुई हैं जमा

  14. OMG! अपनी सुंदर बीवियों को कुरूप बना देते हैं यहां के लोग

  15. फोटो शूट के दौरान ट्रैक में फंसी मॉडल, चली गई जान

  16. मुफ्त इलाज करने वाले डॉक्टर ने खाया धोखा, खुद को नहीं बचा सका

  17. जिराफ जैसा बनने के लिए गर्दन में डाले छल्ले, लेकिन फिर हुआ ऐसा

  18. जमीन पर गिरा खाना 5 सेकेंड में उठाकर खाएं तो नहीं है नुकसान

  19. जॉब के लिए नहीं डेटिंग के लिए बनाया मजेदार रिज्यूमे, जरा देखिए

  20. रातों-रात अंबानी-बिड़ला से ज्यादा धनवान हो गया यह शख्स

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.