मुस्कराने को मजबूर करेंगे रेलवे स्टेशनों के ये नामUpdated: Sun, 14 May 2017 10:16 PM (IST)

अनेक विचित्र नामों से भी आपका साबका पड़ा होगा। लेकिन यदि ऐसे ही नाम ट्रेन की खिड़की से दिखाई दे जाएं तो कैसा लगेगा

संजय सिंह, नई दिल्ली। अनेक विचित्र नामों से भी आपका साबका पड़ा होगा। लेकिन यदि ऐसे ही नाम ट्रेन की खिड़की से दिखाई दे जाएं तो कैसा लगेगा? जी हां, भारत में कई रेलवे स्टेशनों के नाम इतने अजीबोगरीब हैं कि आपकी हंसी छूट सकती है। यूं तो ये नाम हर कहीं देखने को मिल सकते हैं। लेकिन राजस्थान, मध्य प्रदेश और तेलंगाना में इनकी बहुतायत है।

कुछ स्टेशनों के नाम तो ऐसे हैं जिनका वास्ता मानवीय संबंधों से है। जैसे बाप, बीवी, साली, नानी, नाना, ससुरा आदि। कुछ आपकी मनोदशा या हैसियत की याद दिलाते हैं, जैसे कवि, दीवाना, अधिकारी, साथी, बंधुआ या भेदिया।

इसी तरह कुछ नामों का संबंध पशु-पक्षियों या वस्तुओं से भी है। बल्ली, बिल्ली, बस्ता, भेजा, बिछिया, छर्रा, हिलसा, इमली, झींगुरा, लाठी, तंदूर, उतरन वगैरह। और तो और राखी, सचिन जैसे सितारे भी इनमें शामिल हैं। अब आइए ऐसे कुछ स्टेशनों से आपका परिचय कराते हैं :

साली : उत्तर पश्चिम रेलवे में जयपुर डिवीजन में स्थित है। दो प्लेटफार्मों वाले इस छोटे स्टेशन पर रोजाना दो ट्रेने रुकती हैं। इसका स्टेशन कोड भी एसएएलआइ यानी साली ही है।

बाप : यह भी राजस्थान में उत्तर-पश्चिम रेलवे के बीकानेर डिवीजन में आता है। इसका स्टेशन कोड बीएएफ यानी बाफ है। यहां केवल एक प्लेटफार्म है और केवल दो ट्रेने यहां हाल्ट करती हैं। वैसे महाराष्ट्र में बेलापुर रेलवे स्टेशन का स्टेशन कोड भी बाप (बीएपी) है। दो प्लेटफार्म वाले इस स्टेशन पर रोजाना 48 ट्रेनें हाल्ट करती हैं।

नानी बराल : पश्चिम रेलवे में राजकोट डिवीजन के अंतर्गत आता है।

रानी : राजस्थान के पाली के इस स्टेशन का कोड भी रानी ही है। छोटे से प्लेटफार्म पर मामूली सुविधाएं हैं। हरिद्वार मेल, आश्रम एक्सप्रेस, अरावली एक्सप्रेस, अहमदाबाद-श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा एक्सप्रेस, उत्तरांचल एक्सप्रेस जैसी ट्रेने यहां रुकती हैं।

ओढनिया चाचा (ओसीएच) : राजस्थान में पोखरण के नजदीक स्थित यह स्टेशन उत्तर-पश्चिम रेलवे के जोधपुर डिवीजन में है। एक प्लेटफार्म वाले स्टेशन पर केवल दो ट्रेने रुकती हैं। नजदीकी स्टेशन पोखरण, जोधपुर और जैसलमेर हैं।

महबूबनगर : यह तेलंगाना में महबूबनगर जिले में स्थित है। दक्षिण-मध्य रेलवे में स्थित यह स्टेशन हैदराबाद डिवीजन में आता है।

सहेली (एसएएचएल): मध्य रेलवे के होशंगाबाद जिले में भोपाल और इटारसी के नजदीक नागपुर डिवीजन में है। पंचमढ़ी, भीमबेटका जैसे पर्यटक स्थल यहां से काफी नजदीक हैं। दो प्लेटफार्म वाले इस स्टेशन पर चार ट्रेने रुकती हैं।

बीबीनगर (बीएन) : दक्षिण-मध्य रेलवे में विजयवाड़ा डिवीजन का यह स्टेशन तेलंगाना में है।

दिवाना (डीडब्लूएनए) : उत्तर रेलवे के दिल्ली डिवीजन में आने वाला यह स्टेशन हरियाणा में पानीपत के नजदीक पड़ता है। यहां दो प्लेटफार्मों पर रोजाना सोलह ट्रेने एक-दो मिनट के लिए रुकती हैं।

गुड़िया (जीआरआई) : उत्तर-पश्चिम रेलवे के अजमेर डिवीजन (पाली) के इस स्टेशन पर कोई प्लेटफार्म नहीं है। यहां रोजाना चार ट्रेने हाल्ट करती हैं।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.