मेजर सहित दो शहीद, तीन आतंकी ढेरUpdated: Sat, 26 Apr 2014 12:47 AM (IST)

सुरक्षाबलों ने शुक्रवार को एक भीषण मुठभेड़ में जैश-ए-मुहम्मद के जिला कमांडर आसिफ समेत तीन आतंकियों को मार गिराया।

श्रीनगर, ब्यूरो। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों ने शुक्रवार को एक भीषण मुठभेड़ में जैश-ए-मुहम्मद के जिला कमांडर आसिफ समेत तीन आतंकियों को मार गिराया। आतंकियों से लोहा लेते सेना का एक मेजर और जवान भी शहीद हो गया, जबकि दो अन्य जवान घायल हैं। फिलहाल, मुठभेड़स्थल से भागे चौथे आतंकी की तलाश हो रही है। मारे गए तीनों आतंकी गुरुवार को नागबल इलाके में चुनावकर्मियों पर हुए हमले में भी शामिल थे, हालांकि इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

शोपियां के करेवा मानलू गांव में जैश के तीन से चार आतंकियों ने अपने संपर्क सूत्र के पास शरण ले रखी थी। इसका पता चलते ही सेना की 44 आरआर और सीआरपीएफ के जवानों ने राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल एसओजी के साथ मिलकर ऑपरेशन शुरू किया। सुरक्षाबल दोपहर को तलाशी लेते हुए जैसे ही फारूक अहमद नामक एक ग्रामीण केमकान के पास पहुंचे तो वहां छिपे आतंकियों ने फायर कर दिया। इसके बाद वहां मुठभेड़ शुरू हो गई।

इस दौरान एक आतंकी ने मकान की खिड़की से छलांग लगाकर भागने का प्रयास किया, लेकिन वह जवानों की घेराबंदी में फंस गया और मारा गया। इस दौरान उसके अन्य साथी लगातार गोलीबारी करते रहे। शाम सात बजे तक जवानों ने अन्य दो आतंकियों को भी मार गिराया, किंतु एक आतंकी बच निकला है। इस दौरान सेना का मेजर मुकुंद वर्धराजन व एक जवान शहीद और दो अन्य जवान घायल भी हो गया।

वहीं आतंकी ठिकाना बना मकान क्षतिग्रस्त हो गया। मारे गए आतंकियों की पहचान आसिफ अहमद निवासी द्रबगाम, इनामुल हक उर्फ अल्ताफ निवासी यारीपोरा व शब्बीर गोरसी के रूप में हुई है। गोरसी के बारे में कहा जाता है कि वह राजौरी का रहने वाला था और पिछले साल पुलिस हिरासत से भाग गया था।


इस बीच, जैसे ही आसिफ के मारे जाने की खबर फैली, उसके गांव और शोपियां के विभिन्न हिस्सों से लोग नारेबाजी करते हुए मुठभेड़स्थल पर पहुंच गए। उन्होंने वहां सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। भीड़ को पूरी तरह हिंसक होते देख पुलिस ने भी स्थिति पर काबू पाने के लिए लाठियां भांजी। बता दें कि जिस जगह मुठभेड़ हुई वह नागबल से करीब बीस किलोमीटर की दूर पर है, जहां गत दिवस आतंकियों ने चुनावकर्मियों पर हमला किया था।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.