कश्मीर में जैश आतंकी ने तैयार किया आत्मघाती दस्ताUpdated: Mon, 16 May 2016 01:24 AM (IST)

बारामुला में पकड़े गए जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी अब्दुल रहमान को आधार कार्ड एलओसी पर मिल गया था।

श्रीनगर। बारामुला में पकड़े गए जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी अब्दुल रहमान को आधार कार्ड एलओसी पर मिल गया था। सिर्फ यही नहीं उसने उत्तरी कश्मीर में स्थानीय आतंकियों का आत्मघाती दस्ता तैयार कर लिया था। फिलहाल, उससे मिले सुरागों पर सुरक्षा एजेंसियों ने कश्मीर में उत्तर से दक्षिण तक छिपे उसके पांच साथियों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया है।

गौरतलब है कि गत वीरवार रात को सेना और पुलिस के संयुक्त कार्यदल ने बारामुला जिला मुख्यालय से मात्र डेढ़ किलोमीटर दूर हाजीबल जंगल से जैश-ए-मुहम्मद के एक आतंकी को पकड़ा था। गुलाम कश्मीर का निवासी आतंकी जनवरी माह में पांच अन्य साथियों संग घुसपैठ करने में कामयाब रहा था।

सूत्रों ने बताया कि उसे सिर्फ बारामुला-कुपवाड़ा में जैश का नेटवर्क तैयार करने का जिम्मा नहीं था, बल्कि स्थानीय आत्मघाती आतंकियों के दो से तीन गुट तैयार करने को कहा गया था। उसने चार से पांच स्थानीय लड़कों को मिशन के लिए तैयार कर लिया था। बस उनकी ट्रेनिंग शुरू होनी थी। 15 दिनों का ट्रेनिंग माड्यूल भी बनाया था। आधार कार्ड के बारे में रहमान ने बताया कि उसे व पांच अन्य साथियों को यह कार्ड उत्तरी कश्मीर में एलओसी पार कर भारतीय सीमा में दाखिल होते ही गाइड ने उपलब्ध करा दिए थे।

बीते चार माह के दौरान वह बारामुला, सोपोर, कुपवाड़ा और बांडीपोर में कई बार संपर्क सूत्रों के पास गया। उसने सरहद पार से आए कुछ अन्य आतंकियों के साथ भी मुलाकात की है। पकड़े जाने से पहले वह सात बार बारामुला आ चुका था।

महत्वपूर्ण जानकारियां मिल रहीं

सेना की 19 इंफेंट्री डिवीजन के जीओसी मेजर जनरल जेएस नैयन ने कहा कि पाकिस्तानी आतंकी का जिंदा पकड़ा जाना अहम है। इससे हमें कई महत्वपूर्ण जानकारियां मिल रही हैं। इसके अन्य साथियों को जिंदा पकड़ने के लिए विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों से मदद ले रहे हैं।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.