दिल्ली प्रदूषण पर डब्ल्यूएचओ गलतUpdated: Fri, 09 May 2014 08:21 AM (IST)

भारत ने डब्ल्यूएचओ के उस अध्ययन को सिरे से नकार दिया है जिसमें कहा गया था कि दिल्ली दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है।

नई दिल्ली। भारत ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के उस अध्ययन को सिरे से नकार दिया है जिसमें कहा गया था कि दिल्ली दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है। वायु प्रदूषण पर नजर रखने वाली संस्था सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) का कहना है कि डब्ल्यूएचओ का अध्ययन भ्रामक और पूर्वाग्रह से ग्रसित है।

दिल्ली सरकार के अधीन काम कर रही सफर के एक अधिकारी गुफरान बेग ने बताया कि "एंबिएंट एयर पॉल्यूशन" नाम की इस रिपोर्ट के 2014 के संस्करण में 91 देशों के करीब 1600 शहरों में वायु प्रदूषण की स्थिति का ब्योरा दिया गया है।

राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण का स्वरूप 2.5 माइक्रोंस से कम पीएम 2.5 सघनता के तहत आता है, जो सबसे गंभीर माना जाता है। इस रिपोर्ट को दिल्ली के लिए सही नहीं कहा जा सकता है। मालूम हो कि पिछले साल वर्ल्ड बैंक की भी एक रिपोर्ट आई थी। इसमें वायु प्रदूषण के मामले में भारत को 126वें स्थान पर रखा गया था।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.