Live Score

हैदराबाद 48 रन से जीता मैच समाप्‍त : हैदराबाद 48 रन से जीता

Refresh

हिन्दी के शिक्षक जांच रहे गणित की कॉपि‍यांUpdated: Mon, 06 Apr 2015 01:21 PM (IST)

बोर्ड परिक्षाओं में गणित जैसे विषय की कॉपी जांचने के लिए हिंदी के शिक्षकों को जिम्‍मेदारी दी गई है।

आगरा। उत्‍तर प्रदेश में हाल ही में सम्‍पन्‍न हुई 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की कॉपी जांचने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। जानकारी के अनुसार बोर्ड परिक्षाओं में गणित जैसे विषय की कॉपी जांचने के लिए हिंदी के शिक्षकों को जिम्‍मेदारी दी गई है। मामले में शिक्षक अब लड़ाई की तैयारी कर रहे हैं।

उप्र के माध्‍यमिक शिक्षा संघ के प्रदेश अध्‍यक्ष आर पी मिश्रा ने प्रदेश सरकार को इस मामले में एक पत्र भी लिखा है। इस पत्र में राजधानी में इस तरह के एक दर्जन से ज्‍यादा मामलों के बारे में बताया गया है जिसमें शिक्षक उन विषयों की कॉपियां जांच रहे हैं जिसे उन्‍होंने कभी पढ़ाया ही नहीं है। इसी तरह के मामले मैनपुरी और फिरोजाबाद में भी सामने आए हैं।

मिश्रा के अनुसार, हिंदी शिक्षक गणित की कॉपियां जांच रहे हैं। अगर बोर्ड ने गलती से राजधानी के एक ही स्‍कूल के 9 शिक्षकों को गलत विषय जांचने के लिए दे दिए हैं तो फिर पूरे प्रदेश में क्‍या स्थिति होगी। मामला सामने आने के बाद लगभग 45 हजार शिक्षकों ने मुल्‍यांकन के काम का व‍िरोध किया है।

गौरतलब है कि, उप्र बोर्ड परीक्षा के मुल्‍यांकन के अंतर्गत अगले दो सप्‍ताह में लगभग 1.40 करोड़ कॉपियां जांची जानी है जिसके लिए 1.05 लाख शिक्षकों को जिम्‍मेदारी दी गई है लेकिन उसमें से एक बड़े हिस्‍से ने इसका विरोध कर दिया है। पूरे मामले में प्राचार्यों की एक यूनियन भी शिक्षकों के समर्थन में उतर आई है। इसके बाद सभी मुल्‍यांकन केन्‍द्रो पर भारी सुरक्षाबल तैनात कर दिया गया है।

मिश्रा के आरोपों को नकारते हुए बोर्ड सचिव अमरनाथ वर्मा ने कहा है कि, ऐसा कोई भी मामला उनकी जानकारी में नहीं आया है। हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि अगर ऐसी कोई स्थिति बन रही है तो जिम्‍मेदार स्‍कूलों ने संबंधित जिला इंस्‍पेक्‍टर को सूचना देनी चाहिए ताकि जरूरी कदम उठाए जा सकें।

वर्मा के अनुसार, यह जिले के स्‍कूल इंस्‍पेक्‍टर की जिम्‍मेदारी है कि परीक्षा और मुल्‍यांकन का काम बिना किसी समस्‍या के हो पाए।

वर्मा के अनुसार, इंस्‍पेक्‍टर हमें मुल्‍यांकन करने वाले शिक्षकों के नाम की अनुमोदन लिस्‍ट भेजते हैं जिसके बाद बोर्ड उन शिक्षकों के दी गई जानाकरी के अनुसार विषय का आवंटन करता है। अगर किसी मामले में शिक्षकों को गलत विषय की कॉपी दे दी गई है तो स्‍कूल द्वारा इसकी सूचना जिला इंस्‍पेक्‍टर को देनी चाहिए।

वर्मा की बात का समर्थन करते हुए मैनपुरी के जिला इंस्‍पेक्‍टर आर पी यादव ने कहा है कि, जिन केन्‍द्रों पर इस तरह की घटनाएं सामने आई है वहां शिक्षकों से एक फार्म भरवा सकते हैं जिसमें बोर्ड द्वारा दिए गए विषय और सहीं विषय की जानकारी दे सकते हैं। इसके बाद उन्‍हें उनकी विशेषज्ञता के विषय की कॉपी प्रदान की जाएगी।

अटपटी-चटपटी

  1. यहां होती है अनोखी शादी, गुड़‍िया के घर पहुंचती है गुड्डे की बारात

  2. दूल्हे ने की ऐसी फरमाइश कि बेहोश हो गई दुल्हन

  3. प्रे‍म विवाह के बाद दूसरी से सगाई, महिला आयोग ने कराई पहली से शादी

  4. True Caller : BJP प्रदेशाध्यक्ष रेस्टोरेंट वाले, तो कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रॉपर्टी ब्रोकर

  5. लड़की से दोस्ती में ले ली अपने ही दोस्त की जान

  6. स्टेशन आते ही यात्री को अलार्म बजाकर उठाएगा रेलवे

  7. ममेरे भाई के प्‍यार में पति पर कर दिया जानलेवा हमला

  8. ग्रामीणों ने की शिकायत, कुछ के शौचालय चोरी, कुछ लापता

  9. राष्ट्रीय खिलाड़ी की फर्जी FB आईडी पर अश्लील फोटो, कोच निकला आरोपी

  10. दो व्यक्ति, एक अकाउंट नंबर, एक पैसा डालता दूसरा निकाल लेता

  11. 24 गांव में हेलिकॉप्टर से न्योता देंगे कम्प्यूटर बाबा

  12. वो दृष्टिहीन है और नाक से बांसुरी बजाकर कमाता है रोजीरोटी

  13. साहब! मेरे लिए कन्या ढूंढ़ दो, मुझे शादी करनी है

  14. डेढ़ साल का बेटा ढूंढ़ रहा मां को, बिलासपुर में पति को था इंतजार

  15. भागवत कथा सुनाकर मास्टर गरीब बच्चों के लिए जुटा रहे धन

  16. बेटे की कमी पूरी करने के लाते हैं घर जमाई

  17. दुनिया को दिव्यांगों का दम दिखाने, तालाब में खुद सीखा तैरना

  18. बेटे को किसान बनाने मां ने छोड़ी 90 हजार प्रतिमाह की नौकरी

  19. सोनू निगम को लेकर पोस्ट पर विवाद, चाकू से हमला

  20. मौत ने दूसरी बार दिया धोखा: पटरी पर लेटा, ड्राइवर ने रोकी ट्रेन

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.