हरियाणा के स्कूलों में अगले सत्र से पढ़ाई जाएगी गीताUpdated: Sun, 15 Mar 2015 09:07 PM (IST)

गीता के श्लोकों को स्कूली पाठ्यक्रम में किया जा रहा शामिल, शिक्षाविदों से चर्चा के बाद कक्षाओं के निर्धाण पर होगा निर्णय: मुख्यमंत्री।

चंडीगढ़। हरियाणा के सरकारी स्कूलों में गीता अगले सत्र से पढ़ाई जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग ने गीता के श्लोकों को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने का काम शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि प्रदेश के स्कूलों में बच्चे आगामी सत्र से गीता पढ़ सकेंगे।

बच्चों को जीवन का सार समझाने वाले गीता के श्लोकों को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किया जा रहा है। बच्‍चे संस्कार संपन्न हों इसलिए सरकार ने यह निर्णय लिया है। स्कूलों में कौन सी कक्षा से गीता के श्लोक पढ़ाए जाएंगे, इस पर अभी विचार-विमर्श चल रहा है। शिक्षाविदें की राय के बाद सरकार उचित निर्णय लेगी।

उन्होंने कहा कि सरकार ने काफी मंथन के बाद गीता को स्कूलों में पढ़ाने का निर्णय लिया है। किन कक्षाओं में शुरूआत में गीता पढ़ाई जाएगी, इसे लेकर कई दौर की बैठकें हो चुकी हैं। स्कूल शिक्षा विभाग लगातार शिक्षाविदों से संपर्क में है।

बता दें कि शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास ने सरकार के सत्ता में आने के बाद ही स्कूलों में गीता पढ़ाने की घोषणा की थी, लेकिन इसके स्वरूप और पढ़ाने के समय पर संशय बना हुआ था। मुख्यमंत्री ने अगले सत्र से गीता पढ़ाए जाने की बात कहकर इस विषय में अपनी प्रतिबद्धता जाहिर कर दी है।

अप्रैल से शुरू होने वाले सत्र से गीता को स्कूलों में इसलिए नहीं पढ़ाया जा सकेगा, चूंकि किताबों की छपाई का आर्डर दिया जा चुका है और पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने वाले गीता के श्लोक भी तय नहीं किए जा सके थे। अब स्कूल शिक्षा विभाग आगामी सत्र के लिए गीता के श्लोकों को चिन्हित कर पाठ्यक्रम में शामिल करने तैयारी कर रहा है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.