'दंगल' फिल्म से प्रभावित चीनी लेखिका पहुंची गीता फोगाट के गांवUpdated: Tue, 07 Nov 2017 09:21 PM (IST)

दंगल फिल्म की कहानी से प्रभावित होकर चीनी लेखिका एला मंगलवार को गांव बलाली व झोझू कलां पहुंची।

चरखी दादरी। दंगल फिल्म की कहानी से प्रभावित होकर चीनी लेखिका एला मंगलवार को गांव बलाली व झोझू कलां पहुंची। सबसे पहले गीता, बबीता, विनेश व रितु बलाली के विद्यालय आर्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल झोझू कलां में जाकर विद्यालय के प्रबंधक सुरेन्द्र से बलाली की बहनों के अध्ययन काल के बारे में जानकारी ली।

सवेरा एनजीओ के प्रदेशाध्यक्ष मनोज गौतम ने उन्हें बताया कि गांव बलाली की पहचान आज इन बहनों के साथ जुड़ गई है। बलाली को विश्व पटल पर पहचान इन बहनों के कारण ही मिल पाई है। गीता के भाई हरविदर, शमशेर कौशिक, इंजीनियर हिमांशु, स्वाति व गुरप्रीत के साथ वे बलाली पहुंची। वहां मैट पर प्रेक्टिस करते लड़के-लड़कियों को देखकर कहा कि महावीर फौगाट इन साधारण से दिखाई देने वाले बच्चों से किस तरह असाधारण उपब्धियां अर्जित करते हैं यह महान कार्य है।

भारत आकर बलाली को ही भ्रमण के लिए चुनने के सवाल पर एला ने कहा कि दंगल फिल्म चीन की मोस्ट सेलिंग मूवी बन चुकी है। उनकी इच्छा हुई कि इस फिल्म के वास्तविक हीरो महावीर फौगाट से मिलना चाहिए। दंगल को लेकर चीनी जनमानस के रुझान पर एला ने कहा कि वहां के लोग दंगल की कहानी से बेहद प्रभावित है।

दुनिया के कई देशों में लगभग 600 दिन घूम चुकी एला भारतीय संस्कृति से काफी प्रभावित नजर आई। उन्होंने बताया कि इन सभी अनुभवों को एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित करेंगी। इससे पहले भी उनकी एक पुस्तक काफी लोकप्रिय रही है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.