'ब्‍लू व्‍हेल गेम' में फंस चुके इंजीनियरिंग छात्र को पुलिस ने ऐसे बचायाUpdated: Wed, 06 Sep 2017 12:36 PM (IST)

कटक पुलिस ने 'ब्‍लू व्‍हेल' गेम में फंसे एक इंजीनियरिंग छात्र को न सिर्फ बचाया बल्कि काउंसलिंग के बाद उसे उसके माता-पिता के हवाले किया।

कटक/जोधपुर। मौत का दूसरा नाम बनकर तांडव मचा रहे खतरनाक वीडियो गेम ब्लू व्हेल का खौफ भारत में कम होने का नाम नहीं ले रहा। ताजा मामला ओड़िसा के कटक से आया है। लेकिन इस बार जीत मौत की नहीं बल्कि जिंदगी की हुई।

कटक पुलिस ने 'ब्‍लू व्‍हेल' गेम में फंसे एक इंजीनियरिंग छात्र को न सिर्फ बचाया बल्कि काउंसलिंग के बाद उसे उसके माता-पिता के हवाले कर दिया। तो वही दूसरी ओर जोधपुर में कक्षा दसवीं में पढ़ने वाली एक छात्रा को ठीक उस वक्त बचा लिया गया जब वो ब्लू व्हेल गेम के प्रभाव में आकर कैलाना झील में डूबकर सुसाइड करने ही वाली थी।

पिछले कुछ दिनों से डिप्रेशन में था इंजीनियरिंग छात्र

पीड़ित के दोस्त ने पुलिस को यह कहते हुए मैसेज भेजा था कि पिछले कुछ दिनों से थर्ड इयर का एक छात्र उदास और परेशान स्थिति में है। सिटी डीसीपी अखिलेश्वर सिंह ने बताया कि मार्केट नगर पुलिस को एक फॉरवर्ड मैसेज मिला था। दरअसल यह मैसेज छात्र के पड़ोसी द्वारा भेजा गया था, जो एक मेस में रहता था। मैसेज में पुलिस से मदद करने की अपील की गई थी। पुलिस भी तुरंत हरकत में आ गई और छात्र को बचा लिया गया।

अगर मैं टास्क पूरा नहीं करूंगी तो मां मर जाएगी

इन दिनों देश भर से ब्‍लू व्‍हेल गेम के चक्‍कर में बच्‍चों, छात्रों द्वारा सुसाइड करने की खबरें सामने आ रही हैं। इस गेम के तहत टास्‍क दिया जाता है और अंतिम चरण में गेम खेलने वाले को अपनी जान देने को कहा जाता है। सोमवार को ही राजस्‍थान के जोधपुर में भी इस गेम के चक्‍कर में एक लड़की द्वारा एक पहाड़ी से झील में कूदने की खबर सामने आई थी। हालांकि बाद में उसे बचा लिया गया।

सोमवार रात हुई इस घटना में किशोरी को बचा लिया गया है। किशोरी बीएसएफ के जवान की बेटी है और सोमवार रात घर से यह कहते हुए निकल गई थी कि बाजार जा रही है। माता-पिता ने उसके न लौटने पर उसे फोन किया, लेकिन पाया कि वह फोन कहीं छोड़ गई है, क्योंकि किसी अजनबी ने फोन पर रिप्लाई किया। इसके बाद परिवार खोजबीन में जुट गया और इसी दौरान लड़की को झील के आसपास देखा गया। कुछ लोगों ने पुलिस को अलर्ट किया।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.