फिर से आंदोलन की राह पर अन्ना हजारे, हिस्सा लेने के लिए भरना होगा शपथपत्रUpdated: Mon, 02 Oct 2017 10:03 PM (IST)

समाजसेवी अन्ना हजारे ने गांधी जयंती पर सोमवार को राजघाट पर सत्याग्रह किया।

नई दिल्ली। समाजसेवी अन्ना हजारे ने गांधी जयंती पर सोमवार को राजघाट पर सत्याग्रह किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार को कोसते हुए दिसंबर या जनवरी में फिर आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी। अन्ना ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि, 'आंदोलन में शामिल होने के लिए अरविंद मुझसे पूछेगा नहीं और यदि पूछेगा तो मैं उससे कहूंगा कि वह मुझसे पांच कदम दूर रहे।'

अन्ना हजारे ने बताया कि इस बार आदोलन में शामिल होने वाले लोग राजनीति में नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि जो भी उनके साथ आंदोलन में आएगा उन्हें यह शपथपत्र देना होगा कि वे राजनीति में नहीं जाएंगे और यदि जाएंगे तो वे उन्हें कोर्ट ले जाएंगे।

राजघाट पर एक दिवसीय अनशन खत्म करने के बाद महाराष्ट्र भवन में मीडिया से बातचीत में अन्ना हजारे ने कहा कि तीन साल पहले देशवासियों ने भाजपा को बड़ी उम्मीद से वोट दिया था। लोगों को लगा था कि भ्रष्टाचारमुक्त भारत के लिए लोकपाल की नियुक्ति होगी, काला धन 30 दिन में वापस आएगा, किसानों की आत्महत्या रुकेगी और महिलाओं की सुरक्षा होगी।

बता दें कि अन्ना हजारे ने रविवार को कहा था कि देश महात्मा गांधी के सपने के रास्ते से भटक गया है। इसीलिए वे गांधी जयंती पर एक दिन का सत्याग्रह करेंगे। इसी के मद्देनजर सोमवार को गांधी की समाधि पर पहुंचकर उन्होंने सत्याग्रह शुरू किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर भ्रष्टाचार और किसानों की समस्याओं पर नाराजगी जताई थी और आदोलन करने की बात से अवगत कराया।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.