सोमनाथ की तर्ज पर राम मंदिर निर्माण की उठी मांग, जानें इस ज्योतिर्लिंग के बनने की कहानीUpdated: Tue, 21 Mar 2017 10:04 AM (IST)

सोमनाथ मंदिर के निर्माण के लिए भारत सरकार और सौराष्ट्र सरकार ने 15 मार्च 1950 को मंजूरी दे दी थी।

नई दिल्ली। वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती ने कहा है कि सोमनाथ की तर्ज पर राम मंदिर का हल निकाला जाए। ऐसे में यह जानना रोचक होगा कि आखिर सोमनाथ मंदिर का निर्माण कैसे हुआ?

विश्व हिंदू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया की बार कह चुके हैं कि सोमनाथ मंदिर के निर्माण के लिए सरदार पटेल लोगों से बात नहीं करने गए और न ही उन्होंने अदालत के आदेश की प्रतीक्षा की, बल्कि उन्होंने संसद में एक प्रस्ताव लाकर मंदिर का निर्माण करा दिया था।

इतिहासकारों के अनुसार, इस समय सोमनाथ में जो भव्य मंदिर खड़ा है, उसे भारत के गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बनवाया था। एक दिसंबर 1995 को भारत के राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण में गहन सर्वे और खुदाई के बाद पाया कि मंदिर के संरचना में विभिन्न परतें थीं। यहां खुदाई में कई मूर्तियां और गोलाकार शिवलिंग भी मिला। इसके बाद मांग उठने लगी कि यहां नए मंदिर का निर्माण किया जाए और प्राचीन स्मारक का रख-रखाव किया जाए।

तब सरदार पटेल ने कहा था कि हिंदू भावनाएं इस मंदिर को लेकर मजबूत हैं, बड़े पैमाने पर फैली हुई हैं। मौजूदा स्थिति में मंदिर के रख-रखाव से लोगों की भावनाओं को संतुष्ट नहीं किया जा सकता। अंत में उन्होंने तय किया कि मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। इसके लिए भारत सरकार और सौराष्ट्र सरकार ने 15 मार्च 1950 को मंजूरी दे दी थी।

मगर, महात्मा गांधी का सुझाव था कि मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए सरकार कोई आर्थिक मदद नहीं देगी। इसके बाद में जनवरी 1949 में एक ट्रस्ट का गठन किया गया। सन् 1949 में करीब 25 लाख रुपए जमा किए गए और मंदिर का निर्माण शुरू किया गया। भारत सरकार ने 15 मार्च 1950 को मंदिर की नींव का पत्थर रखा और 8 मई 1950 को मंदिर निर्माण का काम शुरू करते हुए यहां नंदी को स्थापित किया गया।

11 मई 1951 को तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद की मौजूदगी में लिंग स्थापना का समारोह किया गया। इस दौरान देभर से हजारों लोग वहां मौजूद थे। मंदिर का निर्माण चालुक्य शैली के आर्किटेक्चर में किया गया, जिसमें बलुवा पत्थर का इस्तेमाल किया गया।

प्रस्तुतिः शशांक बाजपेई/अरविंद दुबे

अटपटी-चटपटी

  1. जॉब के लिए नहीं डेटिंग के लिए बनाया मजेदार रिज्यूमे, जरा देखिए

  2. कार पर 100 पाउंड की 26 टिकट लगाई, जुर्माना कार से 20 गुना हुआ ज्यादा

  3. मालिक ने लावारिस छोड़ दिया था लेकिन ये डॉगी अब कर रहा है जॉब

  4. रातों-रात अंबानी-बिड़ला से ज्यादा धनवान हो गया यह शख्स, जानिए कैसे

  5. 18 साल बाद मिले मां-बेटे, दे बैठे एक-दूसरे को दिल

  6. 84 साल में पीएचडी करने वाले बुजुर्ग का नाम गोल्डन बुक में दर्ज

  7. मछली पकड़ने के लिए तालाब में फेंका जाल, आ गया मगरमच्छ

  8. मुफ्त इलाज करने वाले डॉक्टर ने खाया धोखा, खुद को नहीं बचा सका

  9. चुप हो जा बेटी, परीक्षा दे रही हूं, पढ़ लूंगी तो तुझे भी पढ़ाऊंगी

  10. ग्रेजुएट पत्नी ने पति को यूं बनाया साक्षर

  11. जिराफ जैसा बनने के लिए गर्दन में डाले छल्ले, लेकिन फिर हुआ ऐसा

  12. जमीन पर गिरा खाना 5 सेकेंड में उठाकर खाएं तो नहीं है नुकसान

  13. OMG! अपनी सुंदर बीवियों को कुरूप बना देते हैं यहां के लोग

  14. इन सवालों से पता चल जाएगा, कहीं एडल्ट फिल्मों के एडिक्ट तो नहीं

  15. फोटो शूट के दौरान ट्रैक में फंसी मॉडल, चली गई जान

  16. डॉगी से भी तेज नाक है इस करोड़पति महिला की, सूंघ लेती हैं कैंसर

  17. यह कैसी बीमारी: मॉडर्न घर से एलर्जी, अब झोपड़ी में आशियाना

  18. मां के शव के साथ कई दिनों भूखी-प्यासी रही तीन साल की बच्ची

  19. रेलवे ने नहीं दिया जुर्माना तो अदालत ने किसान के नाम कर दी ट्रेन

  20. FB पर अपनी मौत का लाइव प्रसारण करता रहा और देखती रही मंगेतर

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.