Live Score

हैदराबाद 48 रन से जीता मैच समाप्‍त : हैदराबाद 48 रन से जीता

Refresh

दोषियों पर आजीवन प्रतिबंध के पक्ष में चुनाव आयोगUpdated: Mon, 20 Mar 2017 11:11 PM (IST)

चुनाव आयोग दोषियों के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाए जाने के पक्ष में है।

नई दिल्ली

चुनाव आयोग दोषियों के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाए जाने के पक्ष में है। आयोग ने राजनीति का अपराधीकरण रोकने की मांग वाली एक जनहित याचिका में दोषी करार लोगों को विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के लिए अयोग्य ठहराए जाने की मांग का समर्थन किया है।

आयोग ने जनप्रतिनिधियों, नौकरशाहों और न्यायपालिका से जुड़े लोगों के आपराधिक मुकदमों के शीघ्र निपटारे के लिए विशेष अदालतों के गठन की मांग का भी समर्थन किया है। चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपने जवाबी हलफनामे में यह बात कही है।

भाजपा नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। आयोग ने अपने हलफनामे में कहा है कि वह जनहित याचिका में की गई पहली और दूसरी मांग का समर्थन करता है।

उपाध्याय की पहली मांग है कि जनप्रतिनिधियों, नौकरशाहों और न्यायपालिका से जुड़े लोगों के आपराधिक मुकदमे एक साल के भीतर निपटाने के लिए विशेष अदालतों का गठन किया जाए।

और दोषी ठहराए गए लोगों को विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के लिए अयोग्य माना जाए। दूसरी मांग है कि चुनाव सुधार से संबंधित विधि आयोग और संविधान समीक्षा आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाए।

तीसरी मांग है कि चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता और अधिकतम आयु सीमा तय होनी चाहिए। आयोग ने तीसरी मांग के बारे में कहा है कि यह मुद्दा विधायिका के कार्यक्षेत्र में आता है और इसके लिए कानून में संशोधन की जरूरत होगी। आयोग ने यह भी कहा है कि चुनाव सुधार के बारे में उसकी कानून मंत्रालय के विधायी विभाग के सचिव के साथ कई बैठकें हुई हैं।

आयोग का कहना है कि विधि आयोग की चुनाव सुधार संबंधी 244वीं और 255वीं रिपोर्ट की सिफारिशों को लागू करने के बारे में उसने केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है, जो अभी सरकार के समक्ष विचाराधीन है। केंद्र सरकार ने अभी तक याचिका का जवाब दाखिल नहीं किया है। मामले पर 28 मार्च को सुनवाई होगी।

दागी सांसदों और विधायकों के संबंध में रुख साफ करे सरकार

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सोमवार को प्रदेश सरकार से पूछा कि वर्तमान और पूर्व सांसदों तथा विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मुकदमे शीघ्र निपटाने के लिए उसकी क्या कार्ययोजना है?

कोर्ट ने कहा कि सरकार इस पर दो सप्ताह में विचार कर अदालत को अपनी मंशा से अवगत कराए। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने यह आदेश दिया। याचिका आशुतोष गुप्ता ने दायर किया है।

इसमें पूर्व व वर्तमान सांसदों और विधायकों के खिलाफ आपराधिक केसों से संबंधित सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अनुपालन करने की मांग की गई है।

अटपटी-चटपटी

  1. यहां होती है अनोखी शादी, गुड़‍िया के घर पहुंचती है गुड्डे की बारात

  2. दूल्हे ने की ऐसी फरमाइश कि बेहोश हो गई दुल्हन

  3. प्रे‍म विवाह के बाद दूसरी से सगाई, महिला आयोग ने कराई पहली से शादी

  4. True Caller : BJP प्रदेशाध्यक्ष रेस्टोरेंट वाले, तो कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रॉपर्टी ब्रोकर

  5. लड़की से दोस्ती में ले ली अपने ही दोस्त की जान

  6. स्टेशन आते ही यात्री को अलार्म बजाकर उठाएगा रेलवे

  7. ममेरे भाई के प्‍यार में पति पर कर दिया जानलेवा हमला

  8. ग्रामीणों ने की शिकायत, कुछ के शौचालय चोरी, कुछ लापता

  9. राष्ट्रीय खिलाड़ी की फर्जी FB आईडी पर अश्लील फोटो, कोच निकला आरोपी

  10. दो व्यक्ति, एक अकाउंट नंबर, एक पैसा डालता दूसरा निकाल लेता

  11. 24 गांव में हेलिकॉप्टर से न्योता देंगे कम्प्यूटर बाबा

  12. वो दृष्टिहीन है और नाक से बांसुरी बजाकर कमाता है रोजीरोटी

  13. साहब! मेरे लिए कन्या ढूंढ़ दो, मुझे शादी करनी है

  14. डेढ़ साल का बेटा ढूंढ़ रहा मां को, बिलासपुर में पति को था इंतजार

  15. भागवत कथा सुनाकर मास्टर गरीब बच्चों के लिए जुटा रहे धन

  16. बेटे की कमी पूरी करने के लाते हैं घर जमाई

  17. दुनिया को दिव्यांगों का दम दिखाने, तालाब में खुद सीखा तैरना

  18. बेटे को किसान बनाने मां ने छोड़ी 90 हजार प्रतिमाह की नौकरी

  19. सोनू निगम को लेकर पोस्ट पर विवाद, चाकू से हमला

  20. मौत ने दूसरी बार दिया धोखा: पटरी पर लेटा, ड्राइवर ने रोकी ट्रेन

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.