फर्जी पेन कार्ड व नियुक्ति पत्र से खुलवाया खाता, 5-5 साल की कैदUpdated: Wed, 11 Oct 2017 03:58 AM (IST)

फर्जी नाम व कागजात पेश करने वाले भीलवाड़ा के बदमाश को कोर्ट ने दो अलग-अलग मामलों में 5-5 साल कैद की सजा सुनाई है।

उज्जैन। बैंक में खाता खुलवाने के लिए फर्जी नाम व कागजात पेश करने वाले भीलवाड़ा के बदमाश को कोर्ट ने दो अलग-अलग मामलों में 5-5 साल कैद की सजा सुनाई है। बदमाश ने खाता खोलने के लिए फर्जी पेन कार्ड व टेक्सटाइल कंपनी का नियुक्ति पत्र बैंक को दिया था। दो आरोपी अब भी फरार हैं।

एजीपी रवींद्रसिंह कुशवाह ने बताया कि नरेंद्र पिता हुकमचंद्र जैन निवासी चंद्रशेखर आजाद मार्ग भीलवाड़ा ने देवास रोड स्थित निजी बैंक में 26 जून 2005 को खाता खुलवाने के लिए खुद को किशन मलहोत्रा बताते हुए खाता खुलवाने के लिए फॉर्म जमा किया था। इसमें उसने पेन कार्ड की छाया प्रति व संगम टेक्सटाइल का नियुक्ति पत्र दिया था।

इसके अलावा दो अन्य लोग गोपाल पिता भेराराम उर्फ भेरूसिंह निवासी सर्वोदय नगर पाली तथा अचलाराम पिता महादेव पंवार निवासी कागा कॉलोनी जोधपुर भी खाता खुलवाने आए थे। इन लोगों ने भी पेन कार्ड व संगम टेक्सटाइल कंपनी का नियुक्ति पत्र दिया था। तीनों के कागजात की जांच करने पर फर्जी पाए गए थे। इस पर बैंक मैनेजर ने माधवनगर पुलिस को शिकायत की थी।

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था। बदमाशों ने तीन बत्ती चौराहे पर स्थित एक अन्य निजी बैंक में भी खाता खुलवाने के लिए फर्जी पेन कार्ड व नियुक्ति पत्र दिया था। पुलिस ने नरेंद्र जैन को वर्ष 2007 में गिरफ्तार किया था। भेराराम व अचलराम फरार हो गए थे। सोमवार को कोर्ट ने नरेंद्र जैन को दो अलग-अलग मामलों में विभिन्न धाराओं के तहत 5-5 साल की कैद की सजा सुनाई है। वहीं, फरार आरोपियों के खिलाफ अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.