पेंच नहीं पहुंची मादा शावक बीटाUpdated: Sat, 22 Mar 2014 04:44 PM (IST)

कान्हा नेशनल पार्क से गुमशुदा बताई जा रही मादा शावक बीटा पेंच पार्क में नहीं पहुंची है। बीचा पिछले दो माह से गायब है।

सिवनी। कान्हा नेशनल पार्क से गुमशुदा बताई जा रही मादा शावक बीटा पेंच पार्क में नहीं पहुंची है। बीचा पिछले दो माह से गायब है। पेंच पार्क डायरेक्टर आलोक कुमार ने नईदुनिया को बताया कि कान्हा नेशनल पार्क से पिछले दो माह से गायब टाइग्रेस बीटा के पेंच पार्क में आने की खबरें फिलहाल अफवाह हैं।

कहां गई बाघिन

कान्हा टाइगर रिजर्व फारेस्ट से पिछले दो महीने से बाघिन बीटा का कुछ अता पता नहीं है। विगत दिवस यह जानकारी आई थी कि इस बाघिन के पेंच में होने के संकेत मिले हैं।

गौरतलब है कि कान्हा नेशनल पार्क में प्रशिक्षण के बाद नर शावक अल्फा और मादा शावक बीटा को कान्हा के जंगल में छोड़ा गया था। किसली रेंज के खैरवाड़ी क्षेत्र में 11 मार्च की शाम दो बाघों की आपसी लड़ाई में शावक अल्फा की मौत हो गई थी जबकि मादा शावक बीटा की लोकेशन का पता नहीं चल पा रहा था। कान्हा राष्ट्रीय पार्क के अधिकारियों ने दावा किया था कि ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार बीटा की लोकेशन पेंच में पाई गई है। अभी दो तीन दिन पूर्व पेंच में एक ऐसा शावक देखे जाने की बात ओपी तिवारी डिप्टी डायरेक्टर कान्हा राष्ट्रीय पार्क ने की थी लेकिन सूत्रों का दावा है कि बाघिन पेंच क्षेत्र में आई ही नहीं।

नहीं आई बाघिन

कान्हा पार्क के अधिकारियों के दावे के उलट आलोक कुमार का कहना है कि पेंच क्षेत्र में कोई नई बाघिन नहीं देखी गई है। क्षेत्र में लगे कैमरों और स्टाफ दोनो को इस तरह की कोई बाघिन या शावक नजर नहीं आया है। फिर भी सूचना मिलने पर पेंच पार्क प्रबंधन तहकीकात में जुट गया है। वन क्षेत्र से लगे ग्रामीणों से पूछताछ और कैमरों के जरिए बाघिन की मौजूदगी की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा है। फिलहाल पार्क में कोई नई बाघिन नहीं आई है।

अब तक पेंच क्षेत्र में कोई नई बाघिन नहीं देखी गई है। यदि बाघिन हमारे यहां आती तो वह कैमरों और हमारे स्टाफ की नजर से नहीं बच पाती। फिर भी खबरों के आधार पर हम बाघिन का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

आलोक कुमार डायरेक्टर, पेंच पार्क

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.