रतलाम में सेना भर्ती रैली : एक का पांव टूटा, दो बेहोशUpdated: Sun, 11 Oct 2015 08:32 PM (IST)

सेना भर्ती रैली में आवेदकों को जमकर पसीना बहाना पड़ रहा है।

रतलाम। सागोद रोड स्थित उत्कृष्ट स्कूल परिसर में चल रही सेना भर्ती रैली में आवेदकों को जमकर पसीना बहाना पड़ रहा है। भर्ती के दूसरे दिन रविवार को उज्जैन व खरगोन के आवेदकों ने दमखम लगाया। इस दौरान 1600 मीटर दौड़ में जहां एक आवेेदक का पांव फ्रैक्चर हो गया वहीं एक को मिर्गी का दौरा आने तो दो अन्य बेहोश होकर मैदान में गिर गए। सभी को एंबुलेंस से जिला अस्पताल लाया गया।

शनिवार रात से ही भर्ती प्रक्रिया के लिए आवेदक पहुंच गए थे। रविवार सुबह करीब 7 बजे चयन प्रक्रिया के अंतर्गत 1600 मीटर दौड़ के लिए कतार में बैठे युवकों ने हिस्सा लिया तो शुरुआत में कुछ लड़खड़ाकर बाहर हो गए तो कुछ ने हिम्मत दिखाकर दौड़ लगाई। अंतिम राउंड में लाखन पिता ईश्वरलाल (19) निवासी महिदपुर रोड लड़खड़ाकर गिर गया। व्यवस्था में जुटे सैनिक स्ट्रैचर से अभ्यर्थी को बाहर लेकर आए और प्राथमिक उपचार कर एंबुलेंस से जिला अस्पताल रैफर किया।

तीन अन्य भी हुए बीमार

दौड़ में हिस्सा लेने के दौरान महेंद्र राठौर (19) निवासी ग्राम बंबोरी, कुलदीप पिता सूरसिंह (20) निवासी नागदा सहित शिवा पिता शैलेंद्र (20) अचैत होकर मैदान में गिर गए। बैचेनी व घबराहट होने पर उन्हें भी जिला अस्पताल के मेडिकल वार्ड में भर्ती किया। उपचार शुरू होने के बाद दो आवेदक वापस चयन स्थल पर चले गए लेकिन महेंद्र को दोपहर तक बैचेनी व घबराहट बनी रही।

सेना में जाने का सपना टूट गया

भर्ती के दौरान पैर फ्रैक्चर होने से प्रक्रिया से बाहर हुए लाखन ने बताया कि उसके पिता इस दुनिया में नहीं है। मां का सपना था कि उसके बेटे का नाम गांव में रोशन हो, इसलिए वह सेना भर्ती प्रक्रिया में शामिल हुआ। पैर फ्रैक्चर होने के बाद उसके गांव से आए अन्य युवक जिला अस्पताल में उपचार करवाते रहे और मौसी संगीताबाई को सूचना कर रतलाम बुलाया। लाखन ने बताया कि वह काफी उम्मीद लेकर भर्ती प्रक्रिया में शामिल हुआ था

4600 में से 600 सफल

रविवार को उज्जैन व खरगोन जिले से करीब 4600 आवेदकों में 600 को 1.6 किमी दौड़ में सफलता मिली। इससे पहले शनिवार को रतलाम जिले के 2000 आवेदकों में से 300 सफल हुए थे। सोमवार को इंदौर व झाबुआ के आवेदकों की भर्ती होगी।

ऽऽऽऽ

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.