संग्रहालय में धूल खा रही चंबल पर आधारित 5 लाख की फिल्मUpdated: Tue, 10 Oct 2017 03:48 AM (IST)

5 लाख रुपए का मोटा खर्च करके तैयार की गई डॉक्यूमेंट्री को देखने के लिए लोग 5 रुपए का खर्च करने के लिए भी तैयार नहीं हैं।

मुरैना। भिंड, मुरैना और श्योपुर जिलों के विभिन्न पहलुओं पर करीब 5 लाख रुपए का मोटा खर्च करके तैयार की गई डॉक्यूमेंट्री को देखने के लिए लोग 5 रुपए का खर्च करने के लिए भी तैयार नहीं हैं। संग्रहालय में लोग फिल्म देखने के लिए आए ही नहीं है। शुरुआत में स्कूलों और छात्रावास के छात्रों को 5 रुपए में यह फिल्म दिखाने के लिए लाया गया था। इसके बाद चंबल दर्शन कार्यक्रम के तहत भी सैलानियों को यहां तक लाने का प्रयास किया गया। लेकिन अब यह सिलसिला भी थम गया है।

जिला प्रशासन ने दिल्ली की एक कंपनी से भिंड, मुरैना और श्योपुर जिले की पुरातत्व धरोहर पर आधारित करीब 40 मिनट समय अवधि की एक फिल्म का निर्माण करवाया था। इस काम में करीब 5 लाख रुपए का खर्च किया गया। इस फिल्म का निर्माण पूरा हो जाने के बाद इसकी ट्राइल बीते महीने संग्रहालय के ओपन थिएटर में की गई।

कुछ तकनीकी खराबी को ठीक करने के बाद इस फिल्म के प्रदर्शन को हरी झंडी दे दी गई। फिल्म के प्रदर्शन के लिए शाम 6 बजे से लेकर 7 बजे तक का समय भी तय किया गया। लेकिन टिकिट लेकर फिल्म देखने वाले लोग यहां नहीं पहुुंच रहे हैं। लोग संग्रहालय को दिन के समय देखकर लौट जाते हैं।

स्कूल और छात्रावासों के छात्र भी देख चुके फिल्म

सैलानियों के अभाव में जिला प्रशासन ने सभी सरकारी स्कूलों और छात्रावासों के प्रमुख अधिकारियों को अपने यहां अध्ययन रत छात्रों को संग्रहालय ले जोन के निर्देश दिए। शहर भर के स्कूलों और छात्रावासों के छात्रों ने 5 रुपए में इस फिल्म को देखा। लेकिन यह सिलसिला खत्म होते ही फिल्म प्रदर्शन फिर से बंद हो गया।

टिकिट रेट भी फाइनल नहीं है

संग्रहालय प्रबंधन के मुताबिक अब तक फिल्म के प्रदर्शन के लिए समय का निर्धारण हुआ है। इसके अलावा बच्चों के लिए लगने वाले टिकट का निर्धारण भी हुआ है। बच्चों के लिए टिकट 5 रुपए का है, जबकि बड़ों के लिए यह टिकट कितने का होगा। यह बात अब तक नहीं की जा सकी है। फिल्म प्रर्शन के बारे में संग्रहालय परिसर में जानकारी देने वाला कोई बैनर भी नहीं लगाया गया है।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.