विधायक पुत्र की कावड़ में लगी रहीं उपनगरीय बसेंUpdated: Tue, 18 Jul 2017 12:43 AM (IST)

आकाश विजयवर्गीय ने निकाली कावड़ यात्रा, कांग्रेस ने लगाया आरोप विधायक पुत्र की शिवभक्ति में सरकारी मशीनरी का उपयोग! महू। सावन के दूसरे सोमवार को विधायक कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र ने अपने तमाम कार्यकर्ताओं और भाजपा नेताओं के साथ कावड़ यात्रा निकाली। कांग्रेसियों का आरोप है कि विधायक पुत्र की इस शिवभक्ति में सरकारी मशीनरी का बेज

आकाश विजयवर्गीय ने निकाली कावड़ यात्रा, कांग्रेस ने लगाया आरोप

विधायक पुत्र की शिवभक्ति में सरकारी मशीनरी का उपयोग!

महू। सावन के दूसरे सोमवार को विधायक कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र ने अपने तमाम कार्यकर्ताओं और भाजपा नेताओं के साथ कावड़ यात्रा निकाली। कांग्रेसियों का आरोप है कि विधायक पुत्र की इस शिवभक्ति में सरकारी मशीनरी का बेजा उपयोग हुआ, जिस पर स्थानीय प्रशासन खामोश नजर आया।

विधायक के पुत्र आकाश विजयवर्गीय की इस कावड़ यात्रा के लिए बहुत सी स्थानीय उपनगरीय बसों की मदद ली गई। सुबह से ही इंदौर-महू के बीच चलने वाली सभी बसें स्थगित रहीं जिसके कारण जगह-जगह यात्रियों की भीड़ लगी रही। यात्रियों की इस परेशानी और कावड़ियों की सुविधा के लिए बस मालिकों को दो हजार रुपए मिले। इसके बाद दोपहर बाद बसें उपलब्ध हो सकीं।

आरटीओ ने दबाव बनाया!

ग्रामीण कांग्रेस नेताओं ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा कि महू-इंदौर और पीथमपुर के बीच चलने वाली बसों का आरटीओ के दखल द्वारा जबरदस्ती अधिग्रहण किया गया, जबकि यह कोई सरकारी आयोजन नहीं था। पिगडंबर के इंदर ठाकुर, रिंकू चौहान, संतोष ठाकुर और राकेश परमार ने बताया कि स्कूली बच्चों को इसके कारण खासी परेशानी हुई।

बसों के अधिग्रहण के लिए आरटीओ ने दबाव बनाया या नहीं यह तो साफ नहीं हो रहा, लेकिन उपनगरीय बस एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद शर्मा के बयान ने इसे कुछ हद तक साफ कर दिया। शर्मा ने कहा कि आरटीओ से एक बाबू का फोन बसें देने के लिए आया था तो दोपहर तक के लिए बसें दो हजार रुपए में दे दी गई।

छावनी परिषद का अस्पताल लिया

वहीं शहर कांग्रेस की ओर से भी इसका खासा विरोध देखने को मिला। शहर कांग्रेस के अध्यक्ष महेश जायसवाल ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पिछले कई वर्षों से निर्माणाधीन पड़े छावनी परिषद के अस्पताल की इमारत रविवार रात विधायक के पुत्र आकाश विजयवर्गीय और उनके साथी कावड़ियों के ठहरने के काम आई। कांग्रेस का आरोप है कि सत्तारूढ़ दल के नेता पुत्र के इस कार्यक्रम के लिए छावनी परिषद से कोई अनुमति नहीं ली गई। छावनी परिषद के अधिकारियों ने भी अनुमति न लेने की बात को सही बताया लेकिन जानकारी की मानें तो बिना अनुमति के परिषद के स्वास्थ्य एवं सफाई अमले के कर्मी भी यहां अपनी सेवाएं देते रहे। कांग्रेसी पार्र्षदों ने भी इस पर चुप्पी साधे रखी।

प्लाउडन रोड बंद की

हालांकि अस्पताल की यह इमारत खाली ही पड़ी रहती है और कावड़ियों का इसमें रुकना कोई खास बड़ी बात नहीं थी, लेकिन आयोजन के दौरान प्लाउडन रोड की सड़क काफी देर तक बंद रही, जिसके चलते आवाजाही प्रभावित हुई। उपाध्यक्ष और भाजपा पार्षद रचना विजयवर्गीय ने कहा कि कावड़ियों ने कोई जानबूझकर व्यवस्था भंग नहीं की बल्कि कुछ ही लोग खाली पड़ी इस इमारत में आराम के लिए चले गए थे।

- हमने किसी को भी अस्पताल की इमारत के उपयोग की अनुमति नहीं दी है। शहर से बाहर होने के कारण मुझे इस बारे में ज्यादा पता नहीं है। -रॉबिन वलेजा, छावनी अधिकारी

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.