'मैं जीना चाहती हूं' लिखकर युवती ने कर ली आत्महत्याUpdated: Mon, 17 Jul 2017 03:58 AM (IST)

परिजन उसे गंभीर हालत में लेकर अस्पताल पहुंचे थे। यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

खंडवा। मैं जीना चाहती हूं लेकिन मेरा माईंड खराब रहता है... इसलिए मैं अब आत्महत्या कर रही हूं। मम्मी पापा मुझे माफ कर देना। यह बात निशा पाल ने जहर खाने से पहले सुसाइड नोट में लिखी। शनिवार को निशा ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस ने सुसाइड नोट जब्त किया है। वही परिजन भी उसके बीमार होने की बात स्वीकार रहे हैं। करीब तीन दिन से वह सोई नहीं थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार माता चौक निवासी नेहा पिता राधेश्याम पाल (26) की आत्महत्या के मामले में कोतवाली पुलिस द्वारा जांच की जा रही है। रविवार को पुलिस ने परिजन के बयान दर्ज किए है। नेहा बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती थी।

पिछले कुछ समय से वह दिमागी रूप से बीमार रहती थी। मामले की जांच कर रहे एसआई चंद्रशेखर काड़े ने बताया कि नेहा तीन दिन से सोई नहीं थी। वह नींद नहीं आने से परेशान थी। परिजन नेहा का इलाज जलगांव के एक अस्पताल में करा रहे थे। यह बात परिजन से पूछताछ में पता चली है। परिजन भी इसको लेकर परेशान थे। नेहा के कमरे से देर रात तलाशी लेने पर सुसाइड मिला है।

इसमें उसने लिखा है कि वह जीना चाहती है लेकिन उसका दिमाग खराब रहता है। इससे वह परेशान हो गई है। इसलिए आत्महत्या कर रही है। उसने अपने इस कदम को लेकर परिजन से माफी भी मांगी। सुसाइड नोट में और भी कुछ लिखा हुआ है, जिसकी लिखावट स्पष्ट नहीं होने से पुलिस इसे समझने का प्रयास कर रही है।

विदित हो कि शनिवार को माता चौक निवासी नेहा पाल ने किचन में जहर खा लिया था। इसके बाद वह कमरे में आकर बच्चों को पढ़ाने लगी थी। इस दौरान वह नीचे गिर गई। परिजन उसे गंभीर हालत में लेकर अस्पताल पहुंचे थे। यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

अटपटी-चटपटी

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.