खंडवा जिले में तेंदुए ने दो युवकों पर किया हमला, गाय ने खदेड़ाUpdated: Thu, 20 Apr 2017 06:26 PM (IST)

ग्राम नागोतार में गुरुवार को पानी की तलाश में गांव की ओर आए तेंदुए ने दो लोगों पर हमला कर घायल कर दिया।

खालवा (खंडवा)। ग्राम नागोतार में गुरुवार को पानी की तलाश में गांव की ओर आए तेंदुए ने दो लोगों पर हमला कर घायल कर दिया। दोनों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खालवा में भर्ती किया गया है। एक घायल ने बताया कि तेंदुआ उस पर दोबारा हमला करने आया था, लेकिन पास ही खड़ी गाय ने उसे खदेड़ दिया।

घायल पूनमचंद पिता शोभाराम यादव (25) निवासी नागोतार ने बताया कि वह गुरुवार सुबह करीब 7 बजे गांव के पास स्थित खेत में मूंग की फसल में पानी दे रहा था। इसी दौरान तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया। उसके बाएं हाथ की कलाई में तेंदुए के दांत और पैर में पंजे के नाखून लगे हैं। उसके चीखने पर आसपास के लोगों को आते देख तेंदुआ भाग गया।

गाय ने बचा ली मेरी जान

घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर तेंदुए के हमले में घायल चंपालाल पिता बाटू (50) निवासी नागोतार ने बताया कि वह अपने गाय-बैल को लेकर खेत में चराने गया था। छांव के लिए बनाए गए मांडवे के नीचे बैठा था तभी तेंदुए ने पीछे से हमला कर दिया। तेंदुए के पंजे के नाखून लगने से उसकी पीठ में चोट आई है।

चंपालाल ने बताया कि तेंदुआ दोबारा हमला करने आया लेकिन पास ही खड़ी गाय ने उसे खदेड़ दिया। तेंदुआ घबराकर नाले की ओर भाग गया। गाय की वजह से मेरी जान बच सकी। नाकेदार कुलदीप तोमर ने इस घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करा दिया। साथ ही दोनों घायलों को उपचार के लिए खालवा लाया गया है।

तेंदुए की तलाश जारी

सुंदरदेव सर्कल के परिक्षेत्र सहायक हीरालाल विश्वकर्मा ने बताया कि ग्रामीणों के अनुसार तेंदुआ गांव के पास ही नाले में झाड़ियों के बीच छुपा हुआ है। ग्रामीण जिस स्थान पर तेंदुआ छिपा होना बता रहे हैं वहां उप वनमंडलाधिकारी एमएस सोलंकी, वन परिक्षेत्र अधिकारी एसएस भूरिया पहुंच चुके हैं। इसके साथ ही अन्य कर्मचारी भी तेंदुए पर नजर रखे हुए हैं जिससे उसे सुरक्षित जंगल की ओर भगाया जा सके।

ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ. शैलेंद्र कटारिया ने बताया कि तेंदुए के नाखून लगने से दो लोगों को चोट आई है। दोनों को अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। विदित हो कि ग्राम नागोतार वन परिक्षेत्र खालवा के जंगल से सटा हुआ है। जंगलों में पानी नहीं मिलने से वन्यप्राणी गांवों की ओर चले आते हैं। इस दौरान ग्रामीणों या जानवरों पर नजर पड़ते ही हमला कर देते हैं।

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.