पता नहीं कब आ जाए बेटे की बुरी खबर, इसी डर से मां-बाप हो रहे बेहोशUpdated: Thu, 12 Oct 2017 03:58 AM (IST)

परिजन तीन दिन से ओंकारेश्वर में डटे हुए हैं वहीं अंकित के माता-पिता की हालत बिगड़ने पर उन्हें अकोदिया के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

ओंकारेश्वर, खंडवा । अकोदिया मंडी निवासी अंकित पिता इंद्रसिंह सोलंकी (14) का शव बुधवार को भी गोताखोर नहीं ढूंढ पाए। परिजन तीन दिन से ओंकारेश्वर में डटे हुए हैं वहीं अंकित के माता-पिता की हालत बिगड़ने पर उन्हें अकोदिया के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अंकित को नर्मदा में डूबे हुए तीन दिन हो चुके हैं लेकिन उसका शव बरामद नहीं हो सका है। उसके परिवार के अनिलसिंह, जितेंद्रसिंह, लखनसिंह, प्रेमसिंह, मामा रामसिंह, चाचा राहुलसिंह, अजयसिंह भी शव ढूंढने में लगे हुए हैं।

परिजन अनिल राजपूत ने बताया कि अंकित की मां सुनीताबाई और पिता इंद्रसिंह की हालत गंभीर बनी हुई है। दोनों को अकोदिया मंडी अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। परिवार के अन्य लोगों का भी बुरा हाल है। परिजनों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि अंकित को डूबे तीन दिन हो गए हैं लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल पाया है। परिजन अपने स्तर पर भी अंकित को खोजने में जुटे हुए हैं।

परिजन रामसिंह ने बताया कि बुधवार सुबह तहसीलदार उदय मंडलोई आए थे। उनसे भी अंकित को ढूंढने के लिए इंदौर से रेस्क्यू टीम बुलवाने की गुहार लगाई लेकिन उन्होंने भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया। सिर्फ नगर पंचायत और होमगार्ड के गोताखोर नर्मदा नदी में नावों पर सवार होकर अंकित को ढूंढ रहे हैं।

गोताखोरों के पास आवश्यक संसाधन नहीं होने से वे भी गहरे पानी में उतरने से कतरा रहे हैं। अंकित के मामा रामसिंह राजपूत ने भी आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि घाटों पर सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है। यहां तक कि सूचना बोर्ड भी नहीं है जिससे लोगों को पता चल सके कि आगे गहराई है।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.