जबलपुर : सेना भर्ती में युवकों ने शहर में 6 घंटे तक की तोड़फोड़Updated: Tue, 31 Oct 2017 10:51 AM (IST)

गैरीसन ग्राउंड में चल रही सेना भर्ती के दौरान मंगलवार सुबह बवाल हो गया।

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गैरीसन ग्राउंड में चल रही सेना भर्ती के दौरान मंगलवार सुबह बवाल हो गया। 85 पदों के लिए आए 20 हजार से ज्यादा युवाओं ने सदर, कैंटोमेंट, सिविल लाइंस एरिया में तोड़फोड़ करते हुए कई दुकानों को तहस-नहस कर दिया। एटीएम और शॉपिंग मॉल को भी नहीं बख्शा। स्कूल जा रही छात्राओं के साथ भी अभद्रता की। सुबह तकरीबन 5:30 बजे से शुरू हुआ हंगामा 6 घंटे तक जारी रहा। पुलिस भी युवाओं की भीड़ के आगे बेबस नजर आई।

हालात बेकाबू होते देख दुकानदार लाठी-डंडे लेकर खुद सड़क पर आ गए और सेना भर्ती के अभ्यर्थियों को पीटना शुरू कर दिया। यह देख पुलिस ने भी लाठियां भांजी। पुलिस के सख्त रुख को देख उपद्रवी भागते हुए रेलवे स्टेशन पहुंचे और वहां फूड वेंडिंग मशीन तोड़ डाली। प्लेटफार्म पर मौजूद महिला यात्रियों से अभद्रता की। आरपीएफ और पुलिस ने मोर्चा संभाला, तो हालात सामान्य हुए।

फिजिकल की प्रक्रिया शुरू होते ही हंगामा

सेना की 114 इंफ्रेंट्री (सेना पुलिस) में 85 पदों की भर्ती के लिए 29 अक्टूबर से 6 नवंबर के बीच 7 राज्यों (मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, हरियाणा, झारखंड) के युवाओं को बुलाया गया था। इसमें शामिल होने के लिए उत्तर प्रदेश के तकरीबन 10 जिलों और मप्र के दो जिले से लगभग 20 हजार युवक जबलपुर पहुंचे थे। इन्हें सुबह 4 बजे आर्मी के गैरीसन ग्राउंड में फिजिकल टेस्ट देना था। अभ्यर्थियों का आरोप है कि 20 हजार युवाओं को एंट्री के लिए महज 30 मिनट का समय सेना ने दिया।

जिससे बड़ी संख्या में युवक भर्ती प्रक्रिया में शमिल होने से वंचित हो गए। उप्र से आए युवाओं का आरोप था कि भर्ती में मप्र के अभ्यर्थियों को ज्यादा समय दिया जा रहा है। इसी पर आपत्ति जताते हुए उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। अभ्यर्थियों का आरोप है कि सेना के जवानों ने उन्हें 2 किमी तक दौड़ाकर पीटा। जिसके बाद युवाओं का गुस्सा फूटा। सेना ने अभ्यर्थियों के आरोपों को खारिज किया।

दुकानों में तोड़फोड़, एटीएम लूटने की कोशिश

सदर से सिविल लाइंस तक रास्ते में जो भी दुकानें मिलीं, उनमें तोड़फोड़ की गई। कैश काउंटर और वेटनरी विवि चौराहे के पास लगे एक एटीएम को भी लूटाने की कोशिश हुई। पुलिस के लाठी चार्ज करने पर उपद्रवी यहां से भागे।

-आर्मी की भर्ती में जो उम्मीदवार सफल नहीं हो सके, उन्होंने अपनी निराशा जाहिर की। समय रहते हालात पर काबू कर लिया गया। सदर और सिविल लाइंस एरिया की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अजीम खान, सीएसपी ओमती

- आरपीएफ के जवानों को स्टेशन और प्लेटफार्म पर तैनात किया गया है। सीसीटीवी से उपद्रवियों की शिनाख्त की जा रही है। टिकट लेने वालों को ही स्टेशन पर एंट्री दी जा रही है। हालात काबू में हैं। वीरेन्द्र सिंह, टीआई, आरपीएफ, जबलपुर

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.