एमडीएस के 80 से अधिक छात्रों का मेडिकल यूनिवर्सिटी में नहीं होगा नामांकनUpdated: Fri, 15 Sep 2017 10:39 PM (IST)

गलत तरीके से किए गए 80 से अधिक छात्रों के प्रवेश को मेडिकल यूनिवर्सिटी ने निरस्त कर दिया है।

जबलपुर। प्रदेश के निजी कॉलेजों में पिछले साल एमडीएस यानि मास्‍टर्स ऑफ डेंटल सर्जरी में गलत तरीके से किए गए 80 से अधिक छात्रों के प्रवेश को मेडिकल यूनिवर्सिटी ने निरस्त कर दिया है। यूनिवर्सिटी की ओर से उनके नामांकन ही जारी नहीं किए जाएंगे। जिनके नामांकन जारी हो चुके हैं, वे भी निरस्त कर दिए गए हैं। मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति ने डीएमई और डीएससी (डेंटल कौंसिल ऑफ इंडिया) को इसके लिए अनुशंसा कर दी है।

इस तरह हुआ प्रवेश

कुल निजी डेंटल कॉलेज - 08

कॉलेज में प्रवेश - 114

स्टेट कोटा में प्रवेश - 21

एनआरआई कोटा से प्रवेश - 06

निजी मेडिकल कॉलेजों में वर्ष 2016-17 की प्री पीजी परीक्षा दिए बिना या परीक्षा में फेल छात्रों के प्रवेश लिए जाने के बाद मेडिकल यूनिवर्सिटी इन छात्रों का नामांकन जारी नहीं करेगी। मेडिकल यूनिवर्सिटी के पास स्टेट कोटा से दिए गए 21 छात्रों के प्रवेश की लिस्ट की जांच की जा रही है।

इसके अलावा डीएमई और डीएससी (डेंटल कौंसिल ऑफ इंडिया) से जारी की गई लिस्ट पूरी वही भेजी गई जितने प्रवेश हुए हैं। इससे मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. आरएस शर्मा ने डीएससी को पत्र लिखकर स्पष्ट कर दिया है कि यूनिवर्सिटी के पास यदि छात्रों के अलाटमेंट लेटर, मार्कशीट व अन्य दस्तावेज नहीं पहुंचे तो वे उन छात्रों का नामांकन जारी नहीं करेगी। इनमें से यूनिवर्सिटी ने पहले 44 छात्रों के नामांकन जारी किए थे वे भी रद्द कर दिए हैं। शेष छात्रों के नामांकन भी जारी नहीं किए जाएंगे।

इनका कहना है

एमडीएस में 80 से अधिक छात्र हैं जिनको मेडिकल यूनिवर्सिटी नामांकन जारी नहीं करेगी। इनमें से 44 तो केवल वे छात्र हैं जिनके नामांकन जारी हो गए थे। उन्हें पहले ही निरस्त कर दिया है। डीएससी और डीएमई से लिस्ट मांगी गई थी जो भेज दी गई है। इस बारे में डीएससी और डीएमई को अनुशंसा कर दी है।

डॉ. आरएस शर्मा, कुलपति

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.