कान्हा नेशनल पार्क में मिला 8 माह के बाघ शावक का शव, मां घायलUpdated: Tue, 17 Nov 2015 09:19 PM (IST)

कान्हा नेशनल पार्क में एक 8 माह के बाघ शावक का शव मिला है साथ ही बाघ शावक की मां(नीलम) घायल अवस्था में मिली है।

मंडला। कान्हा नेशनल पार्क में एक 8 माह के बाघ शावक का शव मिला है साथ ही बाघ शावक की मां(नीलम) घायल अवस्था में मिली है। सोमवार की सुबह गश्ती दल ने कान्हा परिक्षेत्र के कन्हारी बीट के कक्ष क्रमांक 112 में बाघ शावक का शव देखा और प्रबंधन को जानकारी दी। पार्क प्रबंधन के मुताबिक बर्चस्व की लड़ाई में बाघ शावक की मौत हुई है क्योंकि बाघ शावक की मां बाघिन भी घायल अवस्था में मिली है। पार्क प्रबंधन ये जानकारी मंगलवार को विज्ञप्ति जारी कर मीडिया को दी है। प्रबंधन ने मृत बाघ शावक का पीएम कराने के बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया है।

कान्हा प्रबंधन के अनुसार सोमवार को सुबह कान्हा टाइगर रिजर्व के स्टॉफ और हाथियों द्वारा नियमित गश्त की जा रही थी। कान्हा परिक्षेेत्र में कन्हारी बीट के कक्ष क्रमांक 112 में एक नर बाघ शावक मृत अवस्था में मिला। मृत शावक के शरीर का पिछला हिस्सा गायब था। प्रबंधन ने बताया कि यह शावक नीलम बाघिन का था। नीलम बाघिन तीन शावकों को जन्म दिया था। तब नीलम को रेडियो कॉलर लगाया गया था। नीलम के एक शावक की पहले ही मौत हो गई थी। दो बचे शावकों में एक शावक सोमवार को बर्चस्व की लड़ाई में मारा गया।

घायल मिली बाघिन

मृत शावक की मां नीलम बाघिन को भी हाथी दल ने खोज निकाला। नीलम घायल अवस्था में मिली है। वहीं दूसरा बाघ शावक पास ही के वन क्षेत्र में सुरक्षित एवं स्वस्थ देखा गया। प्रबंधन का मानना है कि नीलम संघर्ष के दौरान अपने बच्चे को बचाने के दौरान घायल हुई है।

शव परीक्षण कराया गया

कान्हा टाइगर रिजर्व के अधिकारियों, कर्मचारियों की उपस्थिति में डॉ संदीप अग्रवाल, वन्यप्राणी चिकित्सक ने बाघ शावक का दोपहर दो बजे पीएम किया। मृत बाघ शावक के एक बड़े नर बाघ की उपस्थिति बाघ शावक के पिछले हिस्से को खाए जाने के प्रमाण व शावक के सिर की हडिडयों में सुराख मिला है। जिससे प्रथम दृष्टया अनुमान लगाया गया है कि यह एक रेजीडेंट नर बाघ ने बाघ शावक को मारा है। पीएम के बाद आवश्यक शारीरिक अवयवों को हिस्टोपेथोलाजिकल व फारेंसिंक जांच के लिए सुरक्षित रखते हुए क्षेत्रीय कर्मचारियों की उपस्थिति में शाम 5 बजे बाघ शावक का अंतिम संस्कार किया गया।

संबंधित खबरें

जरूर पढ़ें

FOLLOW US

Copyright © Naidunia.